जिला अस्पताल में डीजे की तेज आवाज पर डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टॉफ के ठुमके लगाने का वीडियो हो रहा वायरल

जिला अस्पताल में जश्न: डीजे पर डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टॉफ ने लगाए ठुमके, जिला अस्पताल प्रबंधन द्वारा लगातार तीसरी अपत्तिजनक कार्यक्रम

By: amit sharma

Updated: 28 Jan 2018, 05:34 PM IST

होशंगाबाद। सरकारी अस्पताल साइलेंस जोन होता है, लेकिन सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर इस दावे की धज्जियां उड़ाने में लगे रहते हैं। ताजा मामला मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिला अस्पताल का है। जहां पर सीएस की मनमानी के कारण पूरा स्टॉफ रंगारंग कार्यक्रम में ठुमके लगाता रहा जिससे अस्पताल में भर्ती मरीजों की सांसें ऊपर-नीचे होने लगी।

जिला अस्पताल में गणतंत्र दिवस कार्यक्रम के बाद ट्रॉमा व ओटी के पास सीएस और डॉक्टर्स जमकर डीजे पर नाचे। इस दौरान खाने-पीने के आयोजन के साथ ट्रामा के नीचे जमकर पैरामेडिकल स्टॉफ और डॉक्टर्स ने हंगामा किया। जब कुछ मरीज इसकी शिकायत लेकर डॉक्टर्स के पास पहुंचे तो उन्हें डांट-डपटकर वापस कर दिया गया। इस दौरान बिना रोक-टोक दोपहर ३ बजे तक डीजे पर धूम धड़ाका होता रहा। इस आयोजन की सीएमएचओ डॉ.पीके चतुर्वेदी से भी किसी तरह की अनुमति नहीं ली गई थी। सीएस डॉ.सुधीर डेहरिया ने एक बार फिर से इस आयोजन को कराने का निर्णय ले लिया। सीएमएचओ डॉ.पीके चतुर्वेदी ने बताया कि उनके पास डॉक्टरों के गेट-टू-गेदर की जानकारी थी। इसके अतिरिक्त चेयर गेम की जानकारी थी। लेकिन डीजे के संबंध में उन्हें कोई जानकारी नहीं दी गई थी। उन्होंने इस संबंध में सीएस से स्पष्टीकरण लेने की बात कही है।

 

in the loud voice of the dj the doctor thomke with the hoshangabad

इसके पहले भी हो चुके हैं कई मामले
पहला मामला: जिला अस्पताल में इस तरह से अस्पताल प्रबंधन द्वारा अनुशासनहीनता का पहला मामला नहीं है। इसके पहले भी पैरामेडिकल स्टॉफ कायाकल्प के आयोजन के लिए सीएस के निर्देश पर डॉ.अखिलेश सिंघल ने ऑन ड्यूटी स्टॉफ नर्स को ले आए थे। इसके कारण तीन घंटों तक कई वार्ड खाली पड़े रहे। लेकिन जिला प्रशासन के अधिकारियों की गुड लिस्ट में होने का फायदा सीएस डॉ.डेहरिया को मिला। इनसे आला अधिकारियों ने पूरे मामले को लेकर स्पष्टीकरण भी नहीं लिया।

दूसरा मामला : इसके बाद नबंबर २०१७ में जिले के सभी हड्डी रोग विशेषज्ञों और जिला अस्पताल के पैरामेडिकल स्टॉफ को सीएस ने पचमढ़ी एक कांफ्रेंस में करीब तीन दिनों के ले गए थे। इसी दौरान बीच में ५ नवंबर को एक दुर्घटना में ६ लोगों की मौत हो गई थी। इस दौरान जिला अस्पताल में सीएस डॉ.डेहरिया सहित एक भी हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉक्टर नहीं था। इसके कारण उस समय के सीएमएचओ डॉ.दिलीप कटैलिहा को व्यवस्थाएं संभालनी पड़ी थी। इस दौरान भी अधिकारियों के करीबी होने का फायदा सीधा सीएस को मिला

तीसरा मामला : अब यह तीसरा मामला है कि जब सीएस डॉ.सुधीर डेहरिया ने अस्पताल में डीजे लगाकर नाच गाने का आयोजन किया हो। इससे भी मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

 

 

 

शर्मिंदा करने वाला मामला
इस तरह की हरकत नहीं होना चाहिए, इसके लिए जिला अस्पताल को नोटिस जारी कर पूछा जाएगा कि अस्पताल परिसर में किसकी अनुमति से डीजे-डांस पार्टी रखी गई। इस तरह की पार्टी अस्पताल परिसर में शर्मिंदा करने वाली है।
मनोज सरियाम, एडीएम होशंगाबाद

amit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned