आजादी की लड़ाई में इस युवक ने अंग्रेजी हुकूमत को चबवा दिए थे 'लोहे के चने'

आजादी के पहले ही 1942 में फहरा दिया था गवर्मेंट स्कूल पर तिरंगा, अंग्रेजों से भरी बॉम्बे मेल को पलटाने की भी की थी कोशिश..

By: Shailendra Sharma

Published: 15 Aug 2020, 07:00 AM IST

होशंगाबाद. आजादी की लड़ाई में नर्मदाचंल के सेनानियों का भी खासा योगदान था। ऐसे ही एक स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के बारे में हम आपको बता रहे हैं जिनका नाम है अश्वनी कुमार मिश्रा। होशंगाबाद के रहने वाले अश्वनी मिश्रा जब 11वीं कक्षा में थे तभी अंग्रेजी हुकूमत ने उन्हें खतरनाक नेता घोषित कर दिया था और अश्वनी मिश्रा ने अपनी देशभक्ति से भरी गतिविधियों से अंग्रेजों को एख साल तक लोहे के चने चबवाए थे।

1942 में स्कूल में फहरा दिया था तिरंगा
स्वतंत्रा संग्राम सेनानी अश्वनी मिश्रा ने अपने पिता शंभुदयाल मिश्रा से प्रेरणा लेते हुए 1942 में ही गवर्मेंट स्कूल में तिरगा फहराकर आजादी का बिगुल बजा दिया था। 1942 में जब महात्मा गांधी भारत छोड़ो आंदोलन में करो या मरो का निर्देश दिया था तो 11वीं कक्षा के छात्र अश्वनी कुमार ने भी इन निर्देशों का पालन किया था और देशवासियों में आजादी की अलख जगाई थी। लवो छात्रों को स्कूल जाने से रोकना, नारे लगाना, जुलूस निकालना, सूचना चिपकाना, तोड़फोड़ करना, टेलीफोन के तार काटना जैसी गतिविधियां करते थे।

बॉम्बे मेल को पलटाने और अंग्रेज गवर्नर की हत्या की भी रची साजिश
16 अगस्त 1923 को जन्मे अश्वनी मिश्रा के पिता शंभुदयाल मिश्रा भी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे और उन्हीं से प्रेरणा लेकर अश्वनी भी आजाद भारत के आंदोलन का हिस्सा बने। अश्वनी मिश्रा ने अंग्रेजों से भरी बॉम्बे मेल को उलटाने की भी कोशिश की थी। होशंगबाद यात्रा पर आए अंग्रेज गवर्नर हेनरी टॉयनम की हत्या की साजिश में भी वो शामिल थे। अश्वनी की इन्हीं सभी गतिविधियों के कारण उन्हें खतरनाक नेता घोषित किया गया था और सालभर से ज्यादा समय तक उन्हें स्कूल से निष्कासित कर जेल में रखा गया था।

निकालते थे प्रभात फेरी व जुलूस
सैनानी अश्वनी कुमार मिश्रा अपने पिता शंभू दयाल मिश्रा और लाला अर्जुन सिंह के साथ रहकर रोजाना प्रभात फेरी व जुलूस निकलवाते थे। पं. मिश्रा ने हरिजन सेवक संघ की स्थापना की एवं प्रथम हरिजन कर्मचारी वर्ग नगरपालिका होशंगाबाद में हड़ताल कराई थी। वो आजादी के बाद उसी हाईस्कूल में व्याख्याता एवं प्राचार्य बने। उन्हें 1942 में तीन बार जेल जाना पड़ा।

शिक्षा अधीक्षक रहते हुए खोले थे स्कूल
संभागीय शिक्षा अधीक्षक सागर मप्र. रहते हुए मिश्रा ने 65 हायर सेकंडरी, 89 मिडिल एवं 135 प्राइमरी स्कूल पूरे संभाग में खोले। 2 नवंबर 2007 को होशंगाबाद में अश्वनी कुमार मिश्रा का निधन हो गया। निधन के कुछ समय पूर्व उच्च न्यायालय जबलपुर ने उन्हें संचालक शिक्षा घोषित किया था।

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned