Indian Railway New Rules एसी कोच में अब नहीं मिलेगा कंबल

Indian Railway New Rules एसी कोच में अब नहीं मिलेगा कंबल

sandeep nayak | Publish: Dec, 08 2017 01:21:00 PM (IST) | Updated: Dec, 08 2017 01:25:58 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

रेलवे का नया निर्णय, यात्रियों को मिलेंगे शॉल, लगातार शिकायतों के बाद रेलवे ने लिया फैसला

होशंगाबाद। यदि आप इन दिनों ट्रेन में लंबे सफर की तैयारी कर रहे हैं तो जरा ध्यान दीजिए, आपको सर्दी से बचने के लिए खुद ही तैयारी करनी पडग़ी। जीहां, दरअसल ट्रेन के एयर कंडीशनर (एसी) कोच में अब कंबल नहीं मिलेंगे।
कंबल की जगह शॉल
रेलवे ने कंबल की जगह गर्म शॉल देने का फैसला किया है। कई शहरों में प्रयोग के तौर पर इसका उपयोग सफल होने के बाद अब यह सभी ट्रेनों में लागू किया जा रहा है। सूत्रों ने बताया कि रेलवे को यात्रियों द्वारा शिकायत की जा रही थी कि उन्हें गंदी कम्बल ओढऩे के लिए दी जाती है। इधर कम्बल की धुलाई में भी रेलवे को ज्यादा खर्च करना पड़ता था। अब रेलवे ने गर्म शाल देने का उपयोग कुछ ट्रेनों में किया तो शिकायतें भी कम हो गई। अभी केवल दिल्ली, मुंबई, चेन्नई और भोपाल में भी यात्रियों को शाल दी थी।

यह आ रही थी समस्या
रेलवे जनसंपर्क अधिकारी आई.ए सिद्दकी ने बताया कि कंबल हर महीने धोना चाहिए, लेकिन कभी-कभी छह माह भी लग जाते हंै। इससे रेल्वे के सामने यह समस्या आ रही थी। मोटे कंबल धोने से लेकर सुखाने तक की दिक्कतें थी और रोजाना ट्रेनों में २००-४०० कंबलों को रखरखाव भी नहीं हो पा रहा था। पतले कंबलो को देखते हुए यह सारी असुविधाएं खत्म हो जाएगीं। अभी जिन गाडिय़ों के यात्रियों ने इनका इस्तेमाल किया है, उनकी तरफ से कोई शिकायत नहीं आई है। इन्हें मखमली और पतले कपड़ो में डिजाइन कराया है। जिससें यह काफी गर्म होते है।
एक कंबल धोने का खर्च 30 से 35 रूपए
रेलवे एक कंबल धोने के लिए औसतन 30 से 35 रूपए का खर्च करती है। लेकिन धुलवाई समय पर नहीं होने से हर माह पांच-दस यात्रियों द्वारा गंदे कंबल देने की शिकायत की जाती है।

 

-----------------------------------------------

Indian Railway, Indian Railway New Rules, Railway News in Hindi, Railway News

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned