International Girl's Day- माँ ने कहा-बेटों से अच्छी बेटियां, हमें तो एंजिल ही चाहिए थी

International Girl's Day- माँ ने कहा-बेटों से अच्छी बेटियां, हमें तो एंजिल ही चाहिए थी
International Girl's Day: शालिनी ने कहा-बेटों से अच्छी बेटियां, हमें तो एंजिल ही चाहिए थी

poonam soni | Publish: Oct, 11 2019 02:30:19 PM (IST) | Updated: Oct, 11 2019 02:30:20 PM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

पांच माह में जन्मी 1374 बेटियां, फिर भी बालिका लिंगानुपात कम

होशंगाबाद/ बेटियां प्रदेश ही नहीं, बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी शहर का नाम रोशन कर रहीं हैं। चाहे वह शिक्षा की बात हो या खेल जगत की। हर जगह बेटियां परचम लहरा रही हैं। फिर भी लिंगानुपात के मामले में जिले की स्थिति संतोषजनक नहीं है। वहीं शालिनी राठौर ने एक बेटी को जन्म दिया। उसका नाम एंजिल है। उन्होंने कहा कि बेटों से अच्छी बेटियां होती है। हमारे घर भी एंजिल आई। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार पांच माह में करीब 1400 बेटियों ने जन्म लिया।

यह किए जा रहे प्रयास
- किशोरी बालिका योजना चलाई जा रही है, जिसमें उनको जीवन कौशल प्रशिक्षण दिया जाता है।
- हेल्थ एंड हाइजीन के प्रति भी काम किया जा रहा है।
द्द कॉलेज स्टूडेंट्स के बीच जागरुकता लाई जाएगी, क्योंकि आगे चलकर उन पर मातृत्व दायित्व होगा।
- बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओ, बेटी है तो कल है।

तीन साल में जन्मी बेटियां
वर्ष- लड़का- लड़की
2017-18- 2973- 2737
2018-19 - 3103- 2790
2019 से अब तक- 1451- 1374

कॉलेज में कार्यक्रम
महिला बाल विकास विभाग द्वारा होमसाइंस कॉलेज में बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम दोपहर 2 बजे से होगा। जिसमें बालिका, शिक्षा, स्वच्छता, सुरक्षा एवं स्वास्थ्य पर चर्चा की जाएगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned