उज्जैन के गोदामों में नहीं बची अनाज रखने की जगह तो भेजा इटारसी

समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी के बाद अनाज रखने की जगह नहीं होने से बने हालात, इटारसी आया १५ हजार मीट्रिक टन गेहंंू वेयरहाउसिंग कार्पोरेशन के गोदाम में रखा

By: Manoj Kundoo

Published: 06 Jun 2020, 08:08 PM IST

इटारसी
समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी के बाद उज्जैन के गोदामों में रखने की जगह नहीं बची है। जिसके कारण १५ हजार मीट्रिक टन अनाज ट्रकों में लादकर इटारसी भेज दिया गया है। यहां यह अनाज मप्र वेयरहाउसिंग कार्पोरेशन के गोदामों में रखवाया गया है। विभागीय अधिकारी के मुताबिक अभी और अनाज आने वाला है। जिसे पिपरिया और बानापुरा के गोदामों में रखवाया जाएगा।
ज्ञात रहे कि मप्र वेयरहाउसिंग कार्पोरेशन की जिले में १० ब्रांच हैं। जिसके १२० गोदामों की क्षमता २ लाख ५० हजार मीट्रिक टन है। इसके अलावा जिले में निजी २५० वेयरहाउसों की क्षमता १० लाख मीट्रिक टन अनाज रखने की है। जिनमें वर्ष २०१७ में खरीदा गया अनाज भी भरा हुआ है। इधर इटारसी ब्रांच के १४ वेयरहाउस भी लगभग फुल हो चुके हैं। वेयरहाउसिंग कार्पोरेशन के इटारसी प्रबंधक जीके गौतम ने बताया कि उज्जैन से आया १५ हजार मीट्रिक टन गेहूं पूरी सुरक्षा के साथ गोदामों में रखवाया गया है।

करीब ९ लाख मीट्रिक टन खरीदी-
जिले में इस बार मप्र में सबसे ज्यादा गेहूं खरीदी की गई है। जिले के २९० खरीदी केंद्रों में ७० हजार से ज्यादा किसानों से करीब ९ लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा गया है। यह गेहूं भी कार्पोरेशन और निजी वेयरहाउसों में रखा गया है।

एक साथ बांटा था तीन महीने का राशन-
सरकार ने इस बार समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी से पहले गोदामों में जगह बनाने के लिए एक साथ तीन महीने का राशन बांटने का फरमान जारी किया था। इसी वजह से गोदामों में जगह बन पाई थी। वरना इतनी बड़ी मात्रा में खरीदी के बाद अनाज रखने तक की जगह नहीं थी।

Manoj Kundoo Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned