जीन मोहल्ले के युवक किडनी की बीमारी से परेशान, डायलिसिस के लिए 5 घंटे करना पड़ा इंतजार

तबियत इतनी बिगड़ गई नाक और कान से खून का रिसाव शुरू हो गया था।

By: poonam soni

Published: 18 Apr 2020, 07:04 PM IST

इटारसी. कंटेनमेंट जोन में रहने वाले एक किडनी मरीज की जान पर बन आई। उसे शुक्रवार को डायलिसिस कराना था, लेकिन जीन मोहल्ले का निवासी होने के कारण परिजन प्रशासनिक अनुमति के लिए सुबह 11 से शाम 5 बजे तक भटकते रहे। इसके बाद आईजी के हस्तक्षेप के बाद अनुमति दी गई। जीन मोहल्ला निवासी जावेद खान निजी टेलीकॉम कंपनी में नौकरी करता हैं। किडनी में बीमारी के कारण सप्ताह में दो दिन डायलिसिस होती है। लेकिन अनुमति के चक्कर में तबियत इतनी बिगड़ गई नाक और कान से खून का रिसाव शुरू हो गया था। इस संबंध में एसडीएम सतीश राय ने बताया कि डायलिसिस कराने की अनुमति के लिए किसी का फोन आया था। इसेक बाद पास जारी किया गया था। हमें भी हर व्यक्ति की चिंता है।

डीआईजी ने दिलाई अनुमति
सुबह अस्पताल के लिए निकले तो पुलिसकर्मियों ने कहा कि पहले अनुमति लेकर आओ। एक परिचित अनुमति लेने एसडीएम दफ्तर गए। यहां उन्हें इंतजार करने कहा गया। एसडीएम राय ने जानकारी लगते ही परमिशन दे दी लेकिन जीन मोहल्ला का होने की जानकारी लगते ही जावेद को रुकवा दिया गया। जब डीआईजी अरविंद सक्सेना को इसकी सूचना लगी तो उन्होंने टीआई को आदेश दिए कि एम्बुलेंस से मरीज को अस्पताल पहुंचाने का इंतजाम किया जाए। इधर उन्होंने नर्मदा हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ. राजेश शर्मा को मरीज को मदद करने के लिए कहा। बाद में होशंगाबाद की नर्मदा हॉस्पिटल से एक एम्बुलेंस इटारसी पहुंची और जावेद को उसके घर से अस्पताल ले जाया गया। नर्मदा हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ. राजेश शर्मा ने कहा कि जावेद का सैंपल टेस्ट लिया गया है। यदि नेगेटिव आता है तो लॉकडाउन होने तक अस्पताल में रखकर डायलिसिस दी जाएगी।

poonam soni
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned