यहां क्वारंटाइन लोगों के बाहर आते ही जियो फेंसिंग करता है अलर्ट

कंटेनमेंट एरिया से कंट्रोल रूम तक...कोरोना से युद्ध में तकनीक का सहारा तुरंत पहुंचती पुलिस, भेजती है घर

By: poonam soni

Updated: 23 Apr 2020, 11:33 AM IST

मनोज कुंडू/ इटारसी. कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए प्रशासन मैदानी स्तर के साथ अब तकनीक का प्रयोग भी कर रहा है। होम क्वारंटाइन लोगों पर जियो फेंसिंग से नजर रखी जा रही है। अगर ये लोग घर से निकलते हैं तो कंट्रोल रूम से पुलिस को अलर्ट किया जाता है। जिसके बाद तुरंत पुलिस उसे घर भेजती है। कंटेनमेंट जोन में इसी तकनीक से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने में मदद मिल रही है। आठ किमी क्षेत्र में फैले इटारसी के छह कंटेनमेंट जोन और क्वारंटाइन सेंटर को 28 सीसीटीवी कैमरों से लैस किया गया है। इन क्षेत्रों में आने-जाने वाले रास्तों के अलावा जहां कोरोना मरीज मिले हैं, उनके घरों पर नजर रखी जा रही है। थाने के पास आजीविका केंद्र में कंट्रोल रूम बनाया है। जैसे ही कोई घर से बाहर निकलता है तो तुरंत उस क्षेत्र के पुलिस के मोबाइल से सूचना दी जाती है। तुरंत पुलिस पहुंचकर संबंधित को वापस घर भेजती है। प्रोजेक्ट इंचार्ज श्रीनिवास राव बताते हैं कि प्रत्येक कैमरे से 30 मीटर तक देखा जा सकता है।

कंटेनमेंट एरिया से ग्राउंड रिर्पोट

आठ किमी में फैले छह कंटेनमेंट एरिया, 28 कैमरों से रखी जा रही हर गतिविधि पर नजर, पवारखेड़ा क्वारंटाइन सेंटर को भी किया गया सीसीटीवी कैमरे से लैस नेटवर्किंग के जरिए काम कंटेनमेंट एरिया से कंट्रोल रूम तक पहले फाइवर केबल के जरिए आउटपुट लिया जा रहा था। जिसमें केबल टूटने और तारों का मकडज़ाल बनने की समस्या आ रही थी। जिसके बाद इसे नेटवर्किंग से जोड़ा है। जिसमें किसी भी तरह की केबल का उपयोग नहीं किया गया।

24 घंटे ऑटो रिकॉर्डिंग
कंटेनमेंट एरिया और क्वारंटाइन सेंटर में लगाए गए कैमरों से 24 घंटे सातों दिन बेरोकटोक कंट्रोल रूम से नजर रखी जा सकती है। इसके अलावा इनमें 20 दिनों तक की रिकॉर्डिंग सुरक्षित रखने की सुविधा भी है। जिससे किसी भी तरह के विवाद की स्थिति में लाभ होगा।

किस क्षेत्र में कितने लगाए कैमरे
05 जीन मोहल्ला
11 हाजी मंजिल
04 देशबंधुपुरा
01 जमानी चाल
01 गांधी नगर
01 कस्तूरबा नगर
02 जाटव मोहल्ला
02 नाला मोहल्ला

किस क्षेत्र में कितने मरीज इटारसी के जीन मोहल्ले में
अभी तक सबसे ज्यादा दस मरीज कोरोना संक्रमित पाए हैं। हाजी मंजिल -7, देशबंधुपुरा, और नाला मोहल्ला में 2-2, जमानी चाल, गांधीनगर, कस्तूरबा नगर और जाटव मोहल्ला में 1-1 मरीज मिला है।

कंटेनमेंट एरिया को सीसीटीवी से कवर किया है। कोई भी व्यक्ति कंटेनमेंट एरिया में घर से बाहर आता है तो तुरंत कंट्रोल रूम से सूचना संबंधित क्षेत्र की पुलिस टीम को दी जाती है। संबंधित को घर भेजा जाता है, उसकी रजिस्टर में इंट्री की जाती है। ताकि आगे भी उसकी मॉनीटरिंग की जा सके।
अरविंद सक्सेना, डीआइजी

poonam soni
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned