लॉक डाउन: झोला छाप डाक्टर क्लीनिक खोलकर कर रहा था उपचार, पुलिस ने फटकारा

क्लीनिक पर भीड़ देख गांव से मिली शिकायत पर पहुंचा था अमला

इटारसी. रामपुर में एक अप्रशिक्षित डॉक्टर (झोलाछाप) के क्लीनिक पर इन दिनों मरीजों की भीड़ जुट रही है। इसकी शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने शुक्रवार को पहुंचकर डॉक्टर को फटकार लगाई और डॉक्टर ने क्लीनिक बंद किया। रामपुर में डॉक्टर एके बागची का क्लीनिक है, जो रोज इटारसी में रहता है। डॉक्टर बागची ने शुक्रवार को अपना क्लीनिक खोला तो मरीजों की भीड़ लग गई। इस बात की जानकारी जब गांव के युवक सौरभ तिवारी को लगी तो उन्होंने इसकी जानकारी, तहसीलदार और पुलिस को दी। तिवारी ने बताया कि उन्होंने एक बार पहले भी क्लीनिक बंद करा दी थी फिर से डॉक्टर ने इसे खोल लिया है। यहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया जा रहा था।

होम क्वारंटाइन किए जाने के आदेश
केसला जनपद में कार्यरत रामपुर निवासी चंद्रशेखर नामदेव ने डॉ. एनएल हेडा से उपचार कराया था। इसकी जानकारी मिलने के बाद सीईओ ने नामदेव को होम क्वारंटाइन किए जाने के आदेश दिए जबकि नामदेव किसी दूसरे निजी चिकित्सक से अपना उपचार कराना चाह रहे थे। बाद में स्वास्थ्य विभाग का अमला पहुंचा और परिजनों से चर्चा की। नामदेव घर पर नहीं मिले वह इटारसी रवाना हो चुके थे। परिजनों की समझाइश दी गई इसके बाद परिजनों ने मोबाइल पर चंद्रशेखर को उपचार कराने के लिए सरकारी अस्पताल भेजा। थाना प्रभारी नागेश वर्मा ने बताया कि सरकारी अस्पताल से उपचार लेने का कहा है और चिकित्सकों के निर्देश के अनुसार नामदेव को होम क्वारंटाइन कराया जाएगा। डॉक्टर को समझाइश दी गई

गांव के युवक सौरभ तिवारी की सूचना पर यहां रामपुर थाना प्रभारी नागेश वर्मा पहुंचे और डॉक्टर को फटकार लगाई।डॉक्टर ने क्लीनिक बंद किया। थाना प्रभारी ने मरीजों को अपना उपचार सरकारी अस्पताल में कराने को कहा। डॉक्टर को समझाइश दी गई है कि वह किसी भी मरीज का उपचार नहीं करे। उपचार के लिए सरकारी अस्पताल जाएं।

बृजेश चौकसे
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned