लॉकडाउन: दुकानों में रखे 40 लाख के केक और पेस्ट्री बर्बाद

कोरोना वायरस से लाखों की खाद्य सामग्री हुई खराब, दुकान खोली तो निकला सड़ा हुआ सामान

इटारसी. कोरोना संक्रमण की वजह से दो महीने तक चले लॉम्कडाउन के बाद मंगलवार से दुकानें तो खुल गई, लेकिन व्यापारियों का दर्द कम नहीं हुआ। दो महीने से बंद दुकानों में ज्यादातर खाने-पीने का सामान सड़ गया। कई चीजें एक्सपायरी हो गईं। जिन्हें फेंकने के अलावा दुकानदारों के पास दूसरा कोई विकल्प नहीं बचा। लॉकडाउन की वजह से अकेले इटारसी शहर में ही करीब 40 लाख रुपए का सामान खराब होने और एक्सपायरी होने का अनुमान है। इटारसी शहर में करीब 1100 किराना, 100 से ज्यादा बैकरी व प्रोवीजन स्टोर्स, 25 से ज्यादा छोटे-बड़े चाय, नाश्ता के रेस्टॉरेंट, 50 से ज्यादा मिठाई की दुकानें, 20 जूस सेंटर संचालित हैं। 50 किराना दुकानों को छोड़कर ये सभी दुकानें लॉकडाउन होने के बाद से बंद थीं। इन सभी दुकानदारों को लॉकडाउन से भारी नुकसान हुआ है।
खाद्य सुरक्षा विभाग की चेतावनी- एक्सपायरी डेट का माल न बेचें...
लॉकडाउन के बाद दुकान खोलने वाले दुकानदारों को खाद्य सुरक्षा विभाग ने हिदायत दी है कि दुकान में सबसे पहले साफ-सफाई करें। इसके अलावा जो भी सामान खराब हो चुका है या फिर एक्सपायरी हो गया है। उसे नष्ट किया जाए। जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी शिवराज पावक ने कहा कि समय-समय पर जांच की जाएगी। यदि किसी दुकान पर एक्सपायरी डेट का माल पाया गया या फिर किसी ग्राहक को बेचा गया तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

व्यापारियों ने कहा...

लॉकडाउन के कारण दुकान में रखा केक, पेस्ट्री व अन्य खाने-पीने का सामान नष्ट हो गया। करीब ३० हजार रुपए का माल फेंकना पड़ा।
-भीमा बिजलानी, व्यवसायी

अचानक लॉकडाउन होने की वजह से खाने-पीने का सामान जो दुकान में रखा था, वह उसी अवस्था में रखा रह गया। दुकान खुली तो 70 हजार रुपए का माल खराब हो चुका था।
-राजकुमार लालवानी, संचालक प्रोवीजन स्टोर्स

लॉकडाउन होने से सवा लाख रुपए का केक, कोल्डडिं्रक, ब्रेड व अन्य खानपान का सामान खराब हो गया। जिसे नष्ट कर दिया गया है।
-आकाश रतनानी, संचालक बैकरी आइटम

इनका कहना है...

लॉकडाउन होने के बाद शहर के बहुत कम किराना दुकानदारों को होम डिलीवरी की परमिशन मिली थी। इसके बाद शेष बचे किराना, जूस सेंटर, मिठाई, बैकरी, प्रोवीजन स्टोर्स चलाने वालों की दुकानों पर ताले लगे रहे। जिससे दुकानदारों को ४० लाख रुपए से ज्यादा का नुकसान हुआ।
-दीपक हरिनारायण अग्रवाल, अध्यक्ष संयुक्त व्यापार महासंघ

बाजार में वाहनों के प्रवेश पर रोक
बाजार में अव्यवस्थित यातायात से ग्राहकों व दुकानदारों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़े, इसलिए पुलिस ने बाजार क्षेत्र में वाहनों के प्रवेश पर रोक लगाई है। इसके लिए आरएसएस तिराहे पर बेरीकेट्स लगा दिए हैं।

Corona virus
बृजेश चौकसे
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned