ये है सतपुड़ा की शुभंकर नन्ही गिलहरी, पर्यटकों को कर रही आकर्षित

सतपुड़ा टाइगर रिजर्व की शुभंकर नन्ही गिलहरी कर रही पर्यटकों को आकर्षित..प्रबंधन सोशल मीडिया पर कर रहा जंगल से जुड़ी जानकारी पोस्ट...

By: Shailendra Sharma

Published: 08 Jul 2021, 08:55 PM IST

होशंगाबाद. सतपुड़ा टाइगर रिजर्व की पहचान अब बाघ के साथ एक गिलहरी भी होगी। इसे लेकर एसटीआर ने मार्केटिंग शुरू कर दी। एसटीआर में मिलने वाली इंडियन जाइंट स्क्विरल यानी भारतीय विशालकाय गिलहरी, जिसे एसटीआर में नन्ही के नाम से जाना जाता है। इसे एसटीआर के जंगलों का शुभंकर माना जाता है। एसटीआर अधिकारियों की मानें तो यह ज्यादातर समय पेड़ों की टहनियों पर समय बिताती है। इसकी मौजूदगी अच्छी गुणवत्ता वाले जंगल और फूलों की विविधता के संकेत देती हैं। विशेषज्ञ बताते हैं कि भारतीय विशाल गिलहरी बीज फैलाव का महत्वपूर्ण कार्य करती है, जो इको-सिस्टम को बहाल करने में मदद करती है। यह फुर्तीली होती हैं और संतुलन के लिए झाड़ीदार पूंछ का उपयोग कर पेड़ से पेड़ तक कई मीटर छलांग लगा सकती हैं।

ये भी पढ़ें- तीन साल के मासूम ने मां की हत्या की गुत्थी सुलझाई !

satpura_tiger_reserve_2.jpg

शुभंकर बनी एसटीआर की पहचान
एसटीआर में बाघ से ऊपर इस गिलहरी को रखा है। यही कारण है कि एसटीआर में अपनी पहचान इसी गिलेहरी को बनाया है। एसटीआर के मोनो में इस गिलेहरी को आसानी से देखा जा सकता है। सबसे अधिक यह पचमढ़ी के आसपास दिखाई देती है, लेकिन मढ़ई और चूरना के घने जंगलों में भी इसे बड़े पेड़ों में देखा गया है। ये ज्यादातर सम पेड़ों की टहनियों पर ही रहती है और विशेषज्ञों की मानें तो ये गिलहरी इको-सिस्टम को बहाल करने में बेहद मदद करती है।

ये भी पढ़ें- ग्राम सभा ने कलेक्टर पर लगाया 25 लाख का जुर्माना, जानिए पूरा मामला

satpura_tiger_reserve_3.jpg

एसटीआर हर रोज दे रहा जानकारी
अब होशंगाबाद के पचमढ़ी, चूरना, बोरी रेंज को पर्यटन की पहचान दिलाने के लिए पूरी ताकत से लग गया है। एसटीआर प्रबंधन जंगल को लेकर अपने सोशल मीडिया इंस्टाग्राम अकाउंट पर लगातार जानकारियां पोस्ट कर रहा है। जिससे देशभर के पर्यटक यहां आएं। सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के संचालक एल कृष्णमूर्ति ने बताया कि इस गिलेहरी की मौजूदगी एसटीआर के जंगल की गुणवत्ता बताती है, यह घने जंगलों में रहती है, जहां फल-फूल अच्छी मात्रा में उपलब्ध हो। इसके साथ यह जंगल में बीज फैलाती है। इससे बारिश में इन फैले बीजों का अंकुरण भी होता है।

देखें वीडियो- कार में ट्रक की टक्कर लगने से हुआ बवाल

Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned