मासूम बच्ची मां की मौत के बाद झूलती रही नर्मदा के पालने में

आर्थिक तंगी के कारण 27 दिन तक इंतजार करती रही लाड़ली अपने परिवार का इंतजार

इटारसी। प्रसव के बाद मां का निधन होने से नवजात बच्ची को पिछले 27 दिनों से नर्मदा अस्पताल परिवार पाल रहा था। परिजन से नर्मदा से इसलिए नही ले जा रहा था क्योंकि उनके पास पैसा नही था। इस बात पर अस्पताल प्रबंधक ने उपचार का पैसा माफ कर दिया था। लगभग 27 दिन बाद नर्मदा अपना अस्पताल ने भर्ती बालिका 'नर्मदाÓ को मंगलवार को उसके पिता नीलेश कुशवाहा निवासी पीपल मोहल्ला को सौंप दिया। अस्पताल के प्रवक्ता मनोज सारन ने बताया कि परिजनों के पास अस्पताल का बिल चुकाने के लिए पैसे नहीं थे। इसलिए वे अपनी बच्ची को यहां से नही ले जा रहे थे।

27 दिनों से पाल रहा था अस्पताल
नर्मदा अपना अस्पताल के लोग पिछले 27 दिनों से मासूम बच्ची को पाल रहे थे। सभी नर्स व काम करने वाले कर्मचारी उसे अपनी बेटी मान चुके थे। अस्पताल ने बच्ची का करीबन 90 हजार का बिल भी माफ कर दिया है। अब बच्ची के परिजन उसे अस्पताल से आकर 27 दिन बाद ले गए हैं।

यह हुई थी घटना
जानकारी के अनुसार पीपल मोहल्ला निवासी 24 वर्षीय पार्वती कुशवाहा को सात नवंबर को नीलेश ने पत्नी पार्वती को प्रसव के लिए मुखर्जी अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां हालत बिगडऩे पर डाक्टरों ने नर्मदा अस्पताल भेज दिया। यहां डिलेवरी होने के दो दिन बाद प्रसूता ने दम तोड़ दिया चूंकि बच्ची के परिजन मजदूर है। वे इलाज के करीब एक लाख रुपए नहीं दे पा रहे थे। इसलिए बच्ची को छोड़ गए। इस बीच नर्मदा हेल्थ ग्रुप के संचालक डॉ रेनू राजेश शर्मा ने उक्त बालिका को नर्मदा नाम दिया था। उनकी इच्छा थी कि उसे नर्मदा अस्पताल में रखकर पूर्ण रूप से शिक्षा प्रदान करेे, लेकिन इससे पहले ही बालिका के परिजन आने से बच्ची को सौंप दिया गया।


प्रबंधन ने माफ की फीस
नर्मदा के जन्म लेते ही मां की मौत हो गई थी। इसके बाद अस्पताल प्रबंधन ने 27 दिन उसे पाला। इसके इलाज पर आया करीब खर्च लगभग 90,000 रुपए भी माफ कर दिए। मंगलवार को उसके परिजन आए, जिसके बाद डॉ शर्मा ने उक्त बालिका को परिजन को सौंप दिया। बच्ची के पिता नीलेश कुशवाहा ने अस्पताल प्रबंधन का आभार माना।

Show More
poonam soni
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned