जल्द दौड़ेगी नागपुर से इटारसी तक मेमू लोकल ट्रेन

इटारसीवासियों को मिलेगी सौगात, जल्दी ही समय सारिणी होगी घोषित, नागपुर रेलवे कर चुकी ट्रायल।

इटारसी. नागपुर रेल प्रशासन, नागुपर से इटारसी के बीच आधुनिक और तेज दौडऩे वाली सुसज्जित मेमू लोकल ट्रेन चलाएगी। इससे इटारसी वासियों को एक और नई ट्रेन की सौगात मिल जाएगी। 16 इंटरकनेक्ट कोच वाली इस ट्रेन का तीन महीने पहले ट्रायल हो चुका है। रेलवे ने मध्य रेल मुंबई हेड क्वार्टर को इसकी रिपोर्ट भेज दी है, जिसे जल्दी ही हरी झंडी मिलने वाली है।
मेमू ट्रेन की स्पीड 100 किमी रखकर ट्रायल किया गया था। ट्रेन में यात्रियों के वजन के लिए रेत की बोरियां रखीं गईं थी। मुम्बई से सेक्शन में मेमू ट्रेन चलाने के लिए तिथि व उसके चलने का समय तय होगा। नागपुर-इटारसी सेक्शन पर यह पहली मेमू लोकल ट्रेन होगी, जिसके चलने से बीच के छोटे- छोटे स्टेशनों के ग्रामीणों को फायदा मिलेगा। अभी इन छोटे स्टेशनों पर हर ट्रेनें नहीं रूकती है।

जल्द गति पकड़ती है मेमू ट्रेन
मेमू ट्रेन में तीन इंजन होते हैं। ट्रेन में आगे व पीछे एक-एक व बीच में एक इंजन रहता है। इस कारण यह ट्रेन तेज रफ्तार से बढऩे के साथ ही 100 से 150 किमी तक की गति पकड़ लेती है। इस मेमू ट्रेन चलने से लोकल यात्रियों को खासा फायदा होगा। ये ट्रेन पूरी तरह इंटरकनेक्ट हैं। साथ ही यात्रियों के लिए और भी कई तरह की सुविधाएं भी इस ट्रेन में शामिल हैं। कोच के गेट भी बड़े साइज के होते है।

10 सेकंड में पकड़ लेती है रफ्तार
अधिकारियों के मुताबिक मेमू ट्रेन कम समय में रुक और चल सकती है। प्लेटफार्म से चलते ही 8 से 10 सेकंड में यह ट्रेन 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ लेगी। यही नहीं, ट्रेन में सवार यात्रियों को झटका भी नहीं लगेगा। बिजली की खपत भी कम होगी। नागपुर मंडल में अभी मेमू ट्रेन की 3 रैक आई हैं। इटारसी तक चलने वाली इस ट्रेन के लिए जल्द ही नई रैक आने मिलने की संभावना हैं।

बचाएगा यात्रियों का कीमती समय
यात्री ट्रेनों के मुकाबले मेमू ट्रेन यात्रियों का काफी समय बचायेगी। इसके हर कोच मोटर तकनीक के आधार पर बने हैं। इसलिए ये जल्दी स्पीड हासिल करते हैं और उतनी ही तेजी से रुकते भी हैं। नागपुर से इटारसी रूट पर तीसरी लाइन का काम भी पूरा हो जायेगा। ऐसे में मेमू के लिए अतिरिक्त ट्रैक भी उपलब्ध हो सकेगा।

वर्जन
नागपुर- इटारसी सेक्शन में मेमू ट्रेन का ट्रायल हो चुका है। ट्रायल की रिपोर्ट मुंबई मुक्यालय को भेजी गई है। मुख्यालय से ही इसके बाद इसके चलने की तिथि व समय तय होगी।
- आईए सिद्दकी, पीआरओ, भोपाल रेल मंडल।

sanjeev dubey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned