यहां अपने ही गढ़ में भाजपा को खतरे की घंटी, हालात कांग्रेस के भी खराब

यहां अपने ही गढ़ में भाजपा को खतरे की घंटी, हालात कांग्रेस के भी खराब

Sandeep Nayak | Publish: Sep, 03 2018 07:30:00 AM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

गढ़ में खतरे की घंटी, गुटबाजी से अटके काम, लोग नाराज

होशंगाबाद. विधानसभा चुनाव के दौरान पिछले चुनाव में जिस मतदान केंद्र पर भारी समर्थन मिला था, वहां इस बार वर्तमान विधायकों के लिए खतरे की घंटी सुनाई दे रही है। दूसरी ओर कांग्रेस भी बढ़त वाले बूथों पर अपना प्रदर्शन बरकरार रख पाएगी, ऐसे आसार नजर नहीं आ रहे हैं। इसलिए दोनों दल अपनी अगामी कार्ययोजना में फूंक-फूंक कर कदम रख रहे हैं। भारी समर्थन देने वाले मतदातों में नाराजगी है। इधर कांग्रेस के भी एंटी इंकम्बेंसी फेक्टर का फायदा लेने के जतन में लगी है।
घोषणा हुई धरातल पर काम नहीं
वैसे तो नर्मदा को प्रदूषित मुक्त करने पौधरोपण अभियान चलाया गया लेकिन वह लोगों में प्रभाव नहीं डाल पाया। शहर में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट की घोषणा हुई लेकिन जमीन पर काम शुरू नहीं हो पाए।

विधायक-नपाध्यक्ष की खींचतान से परेशान
होशंगाबाद का बूथ क्रमां 46 मतलब हलवाई चौक के आसपास के क्षेत्र में सबसे अधिक वोट 734 मिले थे, जबकि कांग्रेस ने कुल 255 मत ही मिल सके। लेकिन अब यहां के लोग नाराज हैं। आसपास अतिक्रमण है। इसे लेकर विधानसभा अध्यक्ष डॉ.सीतासरण और नपाध्यक्ष अखिलेश खंडेलवाल एक मत नहीं हैं। उनके विवाद और गुटबाजी के कारण कई काम अटके हैं। वहीं बूथ क्रमांक 43 में कुल 315 मत मिले थे, वहीं भाजपा 350 के आसपास थी। अब कांग्रेस इन बूथों पर काम कर रही है।

 

यहां भी नाराजगी
पिपरिया में 2013 विधानसभा चुनाव में विधायक ठाकुर दास नागवंशी को बनखेडी बूथ क्रमांक 179 से सर्वाधिक मत मिले, लेकिन बूथ से जुड़े गांव अब भी विकास के लिए तरस रहे हैं।

कांग्रेस को लोहिया वार्ड से सर्वाधिक बढ़त: पिपरिया में ही पिछले विस चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी ममता मनोज नागोत्रा को गृह वार्ड लोहिया वार्ड के बूथ पर सर्वाधिक 650 वोट मिले थे, वहीं भाजपा को करीब 350 वोट मिले। नागोत्रा के अनुसार विपक्ष में होने से नागरिकों की जरुरी आवश्यकताओं का निराकरण नहीं करा पाई है। वार्ड में रोड, सड़क, नाली निर्माण की घोषणाएं हुई अभी तक काम नही हुए है।

यहां जातिगत समीकरण हावी
सिवनीमालवा विधानसभा क्षेत्र के ग्राम लोखरतलाई के पोलिंग बूथ पर भाजपा के सरताज सिंह को सर्वाधिक 739 वोट मिले थे। फिर भी यहां विकास कार्य नहीं होने से लोग नाराज हैं। ग्रामीण रवि गुप्ता कहते हैं, जो वादे किए थे, वे पूरे नहीं हुए। वहीं कांग्रेस के ग्राम चतरखेड़ा के पोलिंग बूथ क्रमांक 54 पर कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार हजारी लाल रघुवंशी को 788 वोट मिले और भाजपा को 216 थे। यह गांव रघुवंशी का गृह ग्राम है। इसलिए एक तरफा वोटिंग हुई।

सौतेले व्यवहार का आरोप
सोहागपुर विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस को सर्वाधिक 694 वोट केंद्र क्रमांक 180 ग्राम गलचा से मिले है। यहां पर कांग्रेस काफी मजबूत है, लेकिन चुनावों के बाद ग्रामीणों को सौतेले व्यवहार का शिकार होना पड़ रहा है। गांव के राजकुमार पटेल का कहना है कि गांव में विकास नहीं हो पा रहा है। वहीं भाजपा के विजयपाल सिंह को सर्वाधिक 911 वोट केंद्र क्रमांक 10 से मिले थे। इसके साथ गुर्जरवाड़ा, खरदा और वहनभैरव ग्राम से भाजपा काफी आगे रही। इनमें से कुछ क्षेत्रों में विकास के नाम पर सड़के बनी, लेकिन अन्य सुविधाओं पर ध्यान नहीं दिया गया।

 

इनका कहना है
जिले में भाजपा का जो रवैया है, उससे आम जनता काफी परेशान है। भाजपा किसी भी मोर्चे पर साफ निर्णय नहीं ले पा रही है। चाहे वो विकास के मुद्दे का हो, कर्मचारी हितों की बात हो या फिर या फिर अतिक्रमण हटाने का निर्णय हो। इसमें भाजपा के लोग ही आपस में लड़े जा रहे हैं।
- महिमा सिंह, युवा होशंगाबाद

जिल तरह से नपा और विधायक एक दूसरे के कार्यों में हस्तक्षेप कर रहे हैं, इससे पार्टी को नुक्सान ही होना है। होशंगाबाद में विधायक नपा और नपा, विधायक को काम नहीं करने देने के आरोप है। ऐसे में नुक्सान व्यपारियों और आम लोगों का हो रहा है।
- राजकुमार खंडेलवाल, व्यापारी होशंगाबाद

हम इस बार अति उत्साह में नहीं हैं, कांग्रेस बूथ लेवल पर काम कर रही है, जिले में 1174 में से 1161 में बूथ प्रभारी लगा दिए गए हैं। जो हर बूथ पर काम कर रहे हैं, बूथ के कार्यकर्ताओं के नंबर भी प्रदेश से लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष के पास तक हैं। जिनकी मॉनिटरिंग की जा रही
है।

- कपिल फौजदार, जिलाध्यक्ष कांग्रेस होशंगाबाद

भाजपा के कार्यकर्ता हर स्तर पर जनता के संपर्क में बने हुए हैं। थोड़ी बहुत लोगों को परेशानियां होती हैं। उसे दूर करा दिया जाएगा। सभी विधानसभा में हमारे प्रत्यासी मजबूत हैं।

- हरिशंकर जायसवाल, जिलाध्यक्ष भाजपा होशंगाबाद

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned