रेलवे स्टेशनों पर खुलेंगे बहुउद्देशीय स्टॉल, खानपान के अलावा मिलेंगी अन्य जरूरी वस्तुएं

रेलवे स्टेशनों पर खुलेंगे बहुउद्देशीय स्टॉल, खानपान के अलावा मिलेंगी अन्य जरूरी वस्तुएं

Manoj Kundoo | Publish: Sep, 09 2018 10:02:02 AM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

रेलवे स्टेशनों पर खुलेंगे नए स्टॉल, आवंटन में महिलाओं को मिलेगा ३३ फीसदी आरक्षण

-रेलवे स्टेशनों पर खुलेंगे नए स्टॉल, आवंटन में महिलाओं को मिलेगा ३३ फीसदी आरक्षण

इटारसी। रेलवे स्टेशनों पर अब सिर्फ खानपान ही नहीं बल्कि अन्य जरूरत की वस्तुएं भी यात्रियों को आसानी से उपलब्ध मिलेगी। इसके लिए रेलवे सभी ग्रेड के स्टेशनों पर मल्टी परपस स्टॉल (एमपीएस) खोलने जा रही है। इन सभी स्टॉलों की डिजाइन और आकार एक जैसे होंगे। जिससे स्टेशन खूबसूरत दिखने के साथ ही प्लेटफार्म पर आने-जाने वाले यात्रियों के लिए भी सुविधाजनक होंगे। रेलवे अधिकारियों के मुताबिक इस तरह के स्टॉल जबलपुर सहित देश के अन्य कई स्टेशनों पर खोले जा चुके हैं।
स्टॉल आवंटन में महिलाओं के लिए कोटा
एक अनुमान के मुताबिक सभी श्रेणियों के स्टेशनों पर छह लाख से अधिक नए बहुउद्देशीय स्टॉल (एमपीएस) खुलेंगे। स्टॉल से लाखों लोगों को रोजगार मिलेगा साथ ही स्टॉल आवंटन में ३३ फीसदी का सब कोटा महिलाओं का होगा। नीति के मुताबिक अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, स्वतंत्रता सेनानियों आदि के लिए नियम के मुताबिक कोटा होगा।
पांच साल के लिए स्टॉल
स्टेशन पर स्टॉल अधिकतम पांच साल की अवधि के लिए दिए जाएंगे। पांच साल पूरा होने पर नए सिरे से स्टॉल आवंटन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इससे स्टेशनों पर एकाधिकार पर अंकुश लगाया जा सकेगा और नए लोगों को स्टेशनों पर रोजगार का मौका मिलेगा।
खानपान के अलावा अन्य जरूरी वस्तुएं
बहुउद्देशीय स्टॉल में चाय-कॉफी, ताजा खाना और स्नैक्स के अलावा यात्रा के दौरान जरूरत के सभी सामान एक छत के नीचे मिलेंगे। इसमें दवाइयां, मैग्जीन, किताबें, अखबार, पैक्ड बिस्किट, ताला, चेन आदि होगा। सभी स्टॉल पर स्थानीय व क्षेत्रीय पारंपरिक, संस्कृति, इतिहास से जुड़ी वस्तुओं व किताबें बेचना अनिवार्य होगा।

इनका कहना है...
रेलवे बोर्ड टूरिज्म एंड कैटरिंग द्वारा नए बहुउद्देशीय स्टॉल संबंधी नीति बनाई गई है। एक ही स्टॉल पर सभी सामग्री मिलेगी। जिसका फायदा यात्रियों को मिलेगा।
-आईए सिद्दीकी, पीआरओ भोपाल

Ad Block is Banned