रेन वॉटर हार्वेस्टिंग पर होशंगाबाद-इटारसी नपा के हाल

अब जिम्मेदारों के अपने-अपने तर्क : एक ने कहा- हम खुद लगाएंगे तो दूसरे ने की कंपनी से बात

By: poonam soni

Published: 24 May 2018, 12:42 PM IST

होशंगाबाद/इटारसी. नियम के अनुसार १००० स्क्वेयर फीट एवं उससे ऊपर के जो भी मकान बन रहे हैं, उनकी छत पर रेन वॉटर हार्वेस्टिंग होना अनिवार्य है। इसके लिए नगरपालिका भवन निर्माण की एनओसी जारी करने से पहले ७ हजार रुपए भी जमा भी करा रही है, लेकिन इसका पालन नहीं करा पा रही। वाटर हार्वेस्टिंग के नाम पर दोनों नपा हर साल लगभग 20 लाख रुपए जमा कराती हैं, लेकिन किस भवन में लगा, यह खुद उन्हें पता नहीं। इटारसी नपा का तो ओर बुरे हाल है। उसने अपनी पीआईसी में हर सरकारी भवन में हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाने का फैसला किया लेकिन खुद के ही भवन पर ही लगाना भूल गई। होशंगाबाद और इटारसी नगर पालिका रेन वॉटर हार्वेस्टिंग लगाने की शर्त पूरी करने के लिए भवन निर्माताओं से सात-सात हजार रुपए अग्रिम जमा कराती है। इसके बाद उन्हें निर्माण के लिए एनओसी दी जाती है। सिस्टम लगाने के प्रमाण देने के बाद यह राशि वापस कर दी जाती है। दोनों शहरों में हर महीने 55-60 भवन निर्माण की एनओसी जारी की जाती है। इनमें पचास फीसदी एक हजार स्क्वायर फीट या उससे बड़े भूखंडों पर निर्माण की मंजूरी दी जाती है। इस तरह साल में दोनों नपा दस-दस लाख रुपए जमा कराती हैं, लेकिन इनमें से कितने लोगों ने सिस्टम बनाया, किसी को पता नहीं है। होशंगाबाद में साल भर के अंदर सिर्फ दो लोगों को ही यह राशि वापस की गई।

सरकारी भवनों की छत पर लगाने हुआ था निर्णय
इटारसी. नगर पालिका ने पीआईसी में निर्णय लिया था कि भूमिगत जलस्तर बढ़ाने के लिए जितने भी सरकारी भवन हैं उन पर वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाएंगे। साथ ही शहर में जो कुएं हैं उनके आसपास के भवनों में यह सिस्टम बनाकर कुओं को रिचार्ज किया जाएगा। नए जो भी भवन बनेंगे, उनमें यह वाटर हार्वेस्टिंग अनिवार्य की जाएगी। लेकिन दूसरे भवनों की तो छोडि़ए, नपा अपने भवन की छत पर ही यह सिस्टम नहीं बना पाई। जबकि इटारसी के हर क्षेत्र में पानी लेवल इतना नीचे जा चुका है कि समर्सिवल, जेटपंप, हैंडपंप और ट्यूबवेल तक दम तोडऩे लगे हैं।
नपा में दर्ज २४ हजार मकान
नपा के रिकार्ड अुनसार होशंगाबाद में २४ हजार मकान हैं। इनमें लगभग ४ हजार कच्चे आवास हैं।
बढ़ता है भूजल स्तर
शहर में भू-जल स्तर तेजी से गिर रहा है। इस सिस्टम के लगाने से इसमें इजाफा होता है। जो नलकूप दम तोड़ चुके हैं वो भी रिचार्ज हो जाते हैं।
इटारसी में भूजल स्तर की स्थिति
लाइन एरिया - १७० फीट
न्यास कॉलोनी - यहां नीचे चट्टान बताई जाती है
नाला मोहल्ला १०० फीट
पुरानी इटारसी २०० फीट
प्यासा नगर २५० फीट से नीचे
मालवीयगंज १५० से नीचे
सूरजगंज १५० फीट

1. इस मामले में चर्चा हुई है, हम निर्णायक एक्शन लेंगे। कम से कम सभी सरकारी भवनों पर वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम कराए जाएंगे जिससे पानी का जलस्तर बढ़ सके। इसके लिए कुछ कंपनियों को बुलाया भी गया है।
अक्षत बुंदेला, सीएमओ इटारसी
2. हर महीने लगभग २० से ३० भवन निर्माण की एनओसी जारी की जा रही है। एनओसी देने से पहले रेन वॉटर हार्वेस्टिंग की राशि भी जमा कराई जाती है। लोग हार्वेस्टिंग नहीं कराते हैं तो राशि रिफंड नहीं की जाती।
रमेश शुक्ला, एई नपा होशंगाबाद
3. रेन वॉटर हार्वेस्टिंग लगाने के लिए अब जो भी नई परमिशन जारी होगी, उन भवनों में नपा खुद रैन वॉटर हार्वेस्टिंग बनाएगी। पूर्व में जिनके रुपए जमा है, उनको भी चिन्हित करके बनाएंगे।
अमर सत्य गुप्ता, सीएमओ नपा होशंगाबाद

poonam soni
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned