नपा ने बंद कर दिए टॉयलेट, खिलाड़ियों की परेशानी

नपा ने बंद कर दिए टॉयलेट, खिलाड़ियों की परेशानी

yashwant janoriya | Publish: May, 17 2019 06:03:13 PM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

गांधी स्टेडियम में बने चार टॉयलेट को दीवार उठाकर कर दिया बंद

इटारसी. शहर के एक मात्र गांधी स्टेडियम में बने चार शौचालयों को नपा ने बंद कर दिया है। अब मैदान पर आने वाले खिलाडिय़ों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। नपा द्वारा इस दिशा में कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। नपा का तर्क था कि स्टेडियम में स्पर्धा नहीं होने पर असामाजिक तत्व टॉयलेट का दुरूपयोग करते हैं। अपनी दलील देकर नपा ने चारों शौचालयों को बंद तो कर दिया लेकिन कोई अस्थायी शौचालय की व्यवस्था नहीं की। ऐसे में खिलाडिय़ों को परेशानी होती है और खिलाडिय़ों द्वारा चलित शौचालय की मांग की जा रही है।
प्रतियोगिता के साथ ही होते हैं कई आयोजन
गांधी स्टेडियम में रोजाना दर्जनों खिलाड़ी प्रेक्टिस करने आते हैं। साथ ही बड़ी खेल स्पर्धाओं का आयोजन भी गांधी स्टेडियम पर होता है। नगर पालिका भी शासकीय आयोजन व अन्य व्यवस्थाओं के लिए गांधी स्टेडियम का उपयोग करती है यही कारण है कि गांधी स्टेडियम में शौचालय की मांग बढ़ गई है।
रोजाना क्रिकेट के टिप्स सीख रहे खिलाड़ी
इंडियन क्रिकेट क्लब के तत्वावधान में जारी प्रशिक्षण कैंप में खिलाड़ी क्रिकेट की बारीकियां सीख रहे हैं। गुरूवार को सीनियर प्लेयर ने रिचडस डिकोसटा ने प्रशिक्षु खिलाडिय़ों को क्रिकेट के बारे में जानकारी दी। प्रशिक्षु खिलाडिय़ों को रोजाना २०० मीटर रेस कराई जाती है। प्रशिक्षण लेने आने वाले खिलाडिय़ों को भी टॉयलेट नहीं होने से असुविधा का सामना करना पड़ता है।
इनका कहना है
मैदान पर आने वाले खिलाडिय़ों को इससे परेशानी होती है। वहीं बड़ी स्पर्धाओं में बाहर से आने वाले खिलाड़ी भी इससे ज्यादा परेशान होते हैं।
कन्हैया गुरयानी, कोच, फ्रीडर सेंटर

बच्ची के लापता होने के बाद हुई मौत की गुत्थी का कोई सिरा पुलिस को हाथ नहीं लगा

इटारसी. केसला नदी मोहल्ले में बच्ची के लापता होने के बाद हुई मौत की गुत्थी का अभी कोई सिरा पुलिस को हाथ नहीं लगा है। इस मामले को लेकर पुलिस अधीक्षक एमएल छारी केसला पहुंचे और माता-पिता व परिजनों से बातचीत की। हालांकि अभी कोई बात सामने नहीं आई है।
पुलिस अधीक्षक का कहना है कि बच्ची की मौत के बाद उसे गाड़ दिया गया, उस पर नमक डाल दिया गया और उसके कपड़े भी जला दिए गए। कोई सबूत ही छोड़ा गया। ऐसा क्यों हुआ, किसने किया इन सवालों का हल ढूंढने के लिए जांच की जा रही है। पूरे बयान होने के बाद ही मामला स्पष्ट होगा।
यह है घटनाक्रम
शनिवार की शाम को परी उम्र ३ साल खेलते-खेलते लापता हो गई थी। रात भर तलाशने के बाद परी का पता नहीं चला। दूसरे दिन रविवार को उसका शव झाडिय़ों में मिला तो परिजनों ने गांव वालों के दबाव में उसे दफना दिया। बाद में यह मामला उजागर हुआ था ग्राम कोटवार ने पुलिस में आवेदन दिया था। इसके बाद एसडीएम की अनुमति से शव निकवाकर शव का पोस्टमार्टम कराया गया था।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned