डीपी में हुआ धमाका, बीच सड़क पर टूटा बिजली का तार

सड़क पर चल रहे लोग जान बचाकर भागे, बिजली मीटर और उपकरण खराब हुए, दो घंटे सैकड़ों घरों की बिजली बंद रही

By: harinath dwivedi

Published: 14 Jul 2017, 04:43 PM IST

हरदा. पिछले दिनों विद्युत वितरण कंपनी द्वारा शहर में किया गया मेंटेनेंस कार्य बेकार साबित हो रहा है। इसकी पोल गुरुवार को शहर गढ़ीपुरा में विद्युत डीपी में हुए धमाके और 11 केवी लाइन के तार टूटने से खुल गई। बीच सड़क पर तार टूटते ही राहगीरों में अफरा-तफरी मच गई। वहीं दूसरी तरफ लाइन में फॉल्ट की वजह से लोगों के घरों में बिजली उपकरण खराब हो गए। घटना की सूचना  विद्युत वितरण कंपनी को दिए जाने के बावजूद करीब आधा घंटे में कर्मचारी मौके पर पहुंचे। बिजली फॉल्ट का खामियाजा खेड़ीपुरा इलाके सैकड़ों लोगों को लाइन बंद रहने के रूप में भुगतना पड़ा। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि दोपहर 1 बजे गढ़ीपुरा की गली में लगी बिजली डीपी में जोरदार धमाका हुआ। इसके बाद चौक से खेड़ीपुरा की तरफजाने वाली सड़क के बीच में 11 केवी लाइन का तार टूटकर गिर गया। इस दौरान वहां से मोटर साइकिल चालक और राहगीर गुजर रहे थे।अचानक झूलता हुआ तार गिरता देखकर पैदल और वाहन चालक अपनी जान बचाकर वहां से भागे। नागरिकों ने कहा कि करंट लगने के डर से लोगों से रास्ते से निकलना बंद कर दिया। लोगों ने विद्युत वितरण कंपनी के टोल फ्री नंबर पर कॉल करके  तार टूटने की जानकारी दी, किंतु इसके बाद भी कर्मचारी समय पर नहीं पहुंचे।
टीवी, फ्रीज और कूलर खराब हुए
जिस समय गढ़ीपुरा इलाके में विद्युत लाइन फॉल्ट हुई तब अधिकांश घरों में  लोगों के यहां बिजली उपकरण चालू थे। जैसे ही डीपी का इंसुलेटर बस्र्ट हुआ और तार टूटे तो विद्युत उपकरण और बिजली मीटर जल गए। वार्डवासी प्रवीण शुक्ला ने बताया कि डीपी से निकली आवाज इतनी तेज थी कि उनके घर में लगा बिजली का बोर्डउखड़कर लटक गया। सुरेंद्रसिंह राजपूत ने बताया कि  टीवी का सेटअप बॉक्स खराब हो गया। तुलसीराम राठौर ने कहा कि फॉल्ट के कारण उनके घर का कूलर, फ्रीज और टीवी तथा सुनील शर्मा के घर का बिजली मीटर जल गया। नागरिकों ने कहा कि विद्युत कंपनी की लापरवाही की वजह से उन्हें हजारों रुपए का नुकसान हुआ है।
समय पर नहीं किया सुधार कार्य
गढ़ीपुरा के नागरिकों ने बताया कि वार्ड में लगी बिजली डीपी में आए दिन फॉल्ट होते हैं, जिससे घंटों बिजली बंद रहती है। इस संबंध में विद्युत कंपनी के अधिकारियों को अवगत कराने के बावजूद ध्यान नहीं दिया जा रहा था। यही कारण हैकि विद्युत डीपी में लगा इंसुलेटर बस्र्टहो गया, जिससे लोगों के घरों बिजली सामान खराब हुए हैं। यदि समय रहते डीपी में सुधार किया जाता तो उनका हजारों रुपए का सामान नहीं जलता। बिजली तार टूटने की शिकायत के बाद भी कर्मचारी समय पर नहीं पहुंचे। दोपहर 1 बजे बंद हुईबिजली दोपहर 3 बजे सुधारी जा सकी। इसके चलते सैकड़ों घरों के लोगों को बिजली के अभाव में परेशानियों का सामना करना पड़ा।
मेंटनेंस का कोईफायदा नहीं
बारिश में बेहतर बिजली सप्लाई देने के लिए गत दिनों विद्युत वितरण कंपनी द्वारा चार दिनों तक मेंटनेंस कार्य किया था। इसके तहत गत 3 जुलाई को इंदौर रोड पर, 4 को गुप्तेश्वर फीडर, 5 को 33 केवी ग्वालनगर फीडर तथा 6  जुलाई को जिला पंचायत फीडर में विद्युत लाइनों का सुधार कार्यकिया था। जाएगा। लगातार चार दिनों तक कंपनी ने सुबह 9 से दोपहर 1 बजे तक मेंटनेंस कर चार घंटे बिजली बंद रखकर काम किया था, लेकिन इसके बावजूद  बिजली लाइनों में फॉल्ट आ रहे हैं।
इनका कहना है
गढ़ीपुरा में लगी बिजली डीपी का इंसुलेटर बस्र्टहो गया था, जिससे 11 केवी लाइन के तार टूटे थे। कुछ लोगों के विद्युत उपकरण खराब होने की जानकारी मिली है।कर्मचारियों ने दो घंटे काम करके विद्युत सप्लाई शुरू करा दी थी।
कमलेश खोबरागड़े, जेई, विद्युत वितरण कंपनी, हरदा
Show More
harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned