सरकारी अस्पताल के हाल : जरूरी दवाईयां और विशेषज्ञ डॉक्टर तक नहीं

सरकारी अस्पताल के हाल : जरूरी दवाईयां और विशेषज्ञ डॉक्टर तक नहीं

Sandeep Nayak | Updated: 13 Aug 2019, 12:59:18 PM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

इसलिए मुखर्जी अस्पताल में नहीं आते बुजुर्ग

इटारसी। भाजपा की प्रदेश सरकार ने बुजुर्गों के लिए दो साल पहले वल्लभभाई पटेल योजना लाई थी, जिसमें बीपी, डायबिटीज और कैंसर के गंभीर मरीजों का इलाज नि:शुल्क होना है, लेकिन विडंबना है कि पं. श्यामा प्रसाद मुखर्जी असपताल में इस योजना का लाभ लेने बुजुर्ग मरीज नहीं आ रहे हैं। इसकी वजह यहां एमडी मेडिसीन विशेषज्ञ डाक्टर नहीं है। ओपीडी में केवल वही बुजुर्ग आ रहे हैं, जो सर्दी- खांसी और बुखार के हैं। विशेषज्ञ अभाव में बुजुर्ग मरीज बाहर निजी अस्पतालों में मनमानी फीस देकर इलाज कराने को मजबूर है।
मुखर्जी अस्पताल में ओपीडी में रोजाना 500 से 600 मरीज आते हैं, पर इसमें बुजुर्ग मरीजों की संख्या 5 से 10 फीसदी ही हैं। जो केवल मौसमी बीमारी वाले हैं, ये वे बुुजुर्ग है, जो अकेले रहते या बच्चे निजी अस्पताल नहीं ले पाते, तो केवल मौसमी बीमारियों का इलाज कराने यहां आने को मजबूर है।

महीनों से नहीं आए पटेल योजना के मरीज :

शासन ने ऐसे बुजुर्ग मरीज, जो बीपी, डायबिटिज और कैंसर से ग्रस्त हैं, जिनका मुफ्त इलाज, परीक्षण औेर दवाइयां देने के लिए सरदार वल्लभभाई पटेल योजना लागू की है, लेकिन मुखर्जी अस्पताल में इस मर्ज के डॉक्टर ही पदस्थ नहीं है। इस कारण मजबूरी में बुजुर्गों को निजी अस्पताल या जिला अस्पताल जाना पड़ रहा है। बताया जाता है कि महीनों से पटेल योजना का लाभ उठाने वाले मरीज नहीं आ रहे हैं। वरिष्ठ नागारिक कल्याण मंच अध्यक्ष राजकुमार दुबे ने बताया कि मुखर्जी अस्पताल में बुजुर्गो को सही इलाज नहीं मिलता है। मेडिसीन डॉक्टर नहीं होने से बीपी, डायबिटीज और केंसर के बुजुर्ग मरीजों का इलाज नहीं किया जाता है। ऐसे में बुजुर्गो को निजी अस्पताल में महंगी कीमत पर इलाज कराना पड़ रहा है। इटारसी में पेशंनर्स अधिक है। शासन की पटेल योजना का लाभ देने के लिए मेडिसीन के डॉक्टर होना चाहिए।

&मुखर्जी अस्पताल में मेडिसीन डॉक्टर नहीं है। इसलिए शासन की पटेल योजना का बीपी, डायबिटीज और कैंसर के बुजुर्ग मरीजों यहां नहीं आ रहे हैं। इस कारण शासन की वल्लभभाई पटेल योजना का लाभ वरिष्ठ नागरिकों को नहीं दे पा रहे हैं। हमने डॉक्टर की मांग वरिष्ठ अधिकारियों से की है।
डॉ. एके शिवानी, अस्पताल अधीक्षक

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned