scriptNon FAQ purchased 400 metric tons of paddy rejected, after investigati | नॉन एफएक्यू खरीदा ४०० मीट्रिक टन धान हुआ रिजेक्ट, जांच के बाद खरीदी केंद्रों में भेजा वापस | Patrika News

नॉन एफएक्यू खरीदा ४०० मीट्रिक टन धान हुआ रिजेक्ट, जांच के बाद खरीदी केंद्रों में भेजा वापस

परिवहन के बाद वेयरहाउस से सोसाइटियों को वापस लौटा दिया गया अनाज

होशंगाबाद

Published: January 05, 2022 08:09:08 pm

मनोज कुुंडू. होशंगाबाद
समर्थन मूल्य पर धान खरीदने में लापरवाही बरती जा रही है। जिले में खरीदी के बाद वेयरहाउस में भंडारण के लिए भेजा गया करीब ४०० मीट्रिक टन अनाज रिजेक्ट हो गया है। रिजेक्ट अनाज का मूल्य ७७ लाख ६० हजार रुपए है। सोसाइटियों से नॉन एफएक्यू धान बोरियों में भरकर वेयरहाउस भेज दिया गया। वेयरहाउस में भंडारण से पहले अनाज की जांच की गई तो खरीदी केंद्रों में बरती जा रही लापरवाही की पोल खुल गई। बोरियों में भरे अनाज में नमी के साथ ही निर्धारित मापदंड से ज्यादा मिट्टी, कुसी, सुकड़े, टूटे, बदरंग एवं क्षतिग्रस्त दाने पाए गए। जिसकी वजह से नॉन एफएक्यू बताकर सोसाइटियों को वापस अनाज से भरी बोरियां भेज दी गई हैं।
Non FAQ purchased 400 metric tons of paddy rejected, after investigation sent back to procurement centers
Non FAQ purchased 400 metric tons of paddy rejected, after investigation sent back to procurement centers
८१ केंद्रों में की जा रही समर्थन मूल्य पर खरीदी-
जिले में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के लिए ८१ केंद्र बनाए गए हैं। जिनमें खरीदी चल रही है। खरीदी केंद्रों में परिवहन की धीमी रफ्तार से परिसर में अनाज से भरी बोरियां और अनाज भरा हुआ है। जिससे किसानों को तौल के लिए लंबी कतार में खड़े रहकर इंतजार करना पड़ रहा है। जिला आपूर्ति नियंत्रक ने बताया कि अभी तक 31334 किसानों को एसएमएस भेजे जा चुके हैं। जिसके विरुद्ध 18811 किसानों से खरीदी हो चुकी हैं।
यह है एफएक्यू-
एफएक्यू का मतलब फसल पूरी तरह सूखी हो। नमी, मिट्टी, कुसी, सुकड़े, टूटे, बदरंग एवं क्षतिग्रस्त दाने निर्धारित मात्रा से कम हों।

आगे क्या...
खरीदी केंद्रों में नॉन एफएक्यू धान खरीदकर वेयरहाउस भेजने के बाद जांच में गड़बड़ी मिलने पर अनाज खरीदी केंद्रों को वापस भेज दिया गया है। खरीदी केंद्रों में अब धान में मिली कमियों को दूर करके उसे अपग्रेड किया जाएगा। जैसे नमी होने पर उसे सुखाएंगे। मिट्टी व अन्य मिश्रित दानों को निकालने के लिए छन्ना व पंखा लगाकर साफ किया जाएगा। इसके बाद उसे एफएक्यू मापदंड का बनाकर भंडारण के लिए वेयरहाउस भेजा जाएगा।
15 जनवरी तक होगी धान खरीदी-
शासन द्वारा निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार संभाग के जिले में 15 जनवरी 2022 तक धान खरीदी कार्य किया जाएगा। खरीदी के लिए शासन द्वारा धान कॉमन का 1940 रुपए, ज्वार हाइब्रिड का 2738 रुपए एवं बाजरे का 2250 रुपए समर्थन मूल्य निर्धारित किया गया है।
फैक्ट फाइल-
जिला - होशंगाबाद
उपार्जन केंद्र - ८१
कुल पंजीकृत किसान - ३४८८६
किसानों की संख्या जिनसे खरीदी की गई - 18811
कुल खरीदी मात्रा - 197118 मीट्रिक टन
परिवहन की मात्रा - 173836 मीट्रिक टन
परिवहन मात्रा रिजेक्ट - ४०० मीट्रिक टन
यह है एफएक्यू के मापदंड-
विजातीय तत्व - कार्बनिक १ प्रतिशत, अकार्बनिक १ प्रतिशत
क्षतिग्रस्त, बदरंग, अंकुरित एवं घुने दाने - ५ प्रतिशत
अपरिपक्व, सुकड़े एवं कुमलाहे दाने - ३ प्रतिशत
निम्र श्रेणी के मिश्रित धान - ६ प्रतिशत
नमी अधिकतम - १७ प्रतिशत
इनका कहना है...
नॉन एफएक्यू की वजह से परिवहन में करीब ४०० मीट्रिक टन धान रिजेक्ट हुआ है। जिसे सोसाइटियों में वापस भेज दिया गया है।
-कल्याण सिंह ठाकुर, डीएमओ विपणन संघ

सभी एसडीएम को अपने-अपने क्षेत्रों में धान खरीदी कार्य की सघन मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए गए हैं। जिससे किसी भी तरह की गड़बड़ी को रोका जा सके।
-नीरज कुमार सिंह, कलेक्टर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

संसद में फिर फूटा कोरोना बम, बजट सत्र से पहले सभापति नायडू समेत अब तक 875 कर्मचारी संक्रमितRepublic Day 2022 parade guidelines: बिना टीकाकरण और 15 साल से छोटे बच्चों को परेड में नहीं मिलेगी इजाजतकोरोना ने टीका कंपनियों को लगाई मुनाफे की बूस्टरदेश में कोरोना के बीते 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा नए मामले, जानिए कुल एक्टिव मरीजों की संख्यासुप्रीम कोर्ट में 6000 NGO के FCRA लाइसेंस रद्द करने के खिलाफ याचिका पर सुनवाई आजमुठभेड़ में ढेर हुआ ईनामी नक्सली कमांडरगणतंत्र दिवस के पहले अयोध्या में रेलवे दुर्घटना बड़ी साजिश, जाने पूरा मामलाMarriage की खुशियों के बीच मौत का तांडव: दूल्हा दुल्हन को ले जा रही कार ट्रक में घुसी, कई मौतें
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.