15 साल बाद मां घर आई तो बेटी ने छोड़ दी दुनिया...ये है कहानी

harinath dwivedi

Publish: Oct, 13 2017 01:06:00 PM (IST)

Hoshangabad, Madhya Pradesh, India
15 साल बाद मां घर आई तो बेटी ने छोड़ दी दुनिया...ये है कहानी

नर्सिंग की छात्रा पिता और दो भाइयों के साथ रहती थी अलग

सारनी। मां बेटी करीब डेढ़ दशक से अलग रह रहे थे, सबकुछ ठीक-ठाक चल रहा था। बेटी अपने पिता और दो भाईयों के साथ हंसी खुशी रहती थी, पढ़ाई में होनहार बेटी ने आर्थिक तंगी के बाद भी निर्सिंग की पढ़ाई की। एक दिन मां बेटी के घर पहुंची। बस दोनों के बीच कहासुनी शुरु हो गई और शुक्रवार सुबह बेटी ने फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। यह मामला है बैतूल जिले शोभपुर कॉलोनी का।
यहां २५ वर्षीय एक निर्संग छात्रा ने आत्महत्या कर ली। 25 वर्षीय मृतका दीपा डहेरिया अपने पिता और दो भाइयों के साथ रहती थी। पिता राजमिस्त्री का काम करते हैं। मां अलग शोभापुर में रहती थी। करीब 15 साल बाद मां डेढ़ माह पहले शोभापुर आई। इसके बाद से ही घर में विवाद शुरु हो गया था। मोहल्ले के ही कुछ लोगों के अनुसार बेटी और मां के बीच दो दिन पहले ही किसी बात के लेकर विवाद हुआ था, शुक्रवार सुबह बेटी ने आत्महत्या कर ली।

होनहार थी दीपा
दीपा होनहार छात्रा थी। आर्थिक तंगी के बावजूद इस होनहार छात्रा ने नर्सिंग की पढ़ाई पूरी की। उसकी $द्बारा आत्महत्या करे की घटना के बाद से ही मोहल्ले में चर्चा है। सभी लोग शोक में हंै। वहीं पुलिस टीम जांच में जुटी है। मौकै पर पहुंची पाथाखेड़ा पुलिस ने पंचनामा बनाकर मामले में मार्ग कायम किया है। आत्महत्या के कारणों का सही पता जांच के बाद ही चलेगा। फि़लहाल पुलिस द्वारा शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।

 

बीमारी से परेशान वृद्धा कुएं में कूदी
बैतूल. आठनेर थाना क्षेत्र के ग्राम सूखी में बुधवार शाम को एक वृद्धा ने बीमारी से परेशान होकर कुएं में कूदकर आत्महत्या कर ली। पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम सूखी निवासी ५३ वर्षीय वृद्धा नानू पति केशवराव कई दिनों से टीवी की बीमारी से परेशान थी। बीमारी से परेशान होकर बुधवार को कुंए में छलाग लगाकर आत्महत्या कर ली। वृद्धा के शव का पीएम कराकर परिजनों को सौंप दिया है।

Ad Block is Banned