रोपे जाएंगे एक लाख छायादार व फलदार पौधे

बरसात में जपं क्षेत्र के ग्रामों में लगाएंगे पौधे

By: sandeep nayak

Updated: 13 Mar 2018, 06:37 PM IST

सोहागपुर। गत वर्ष दो जुलाई को किए गए वृहद पौधारोपण कार्यक्रम के एक साल पूरे होने के बाद इस साल भी बरसात में जपं क्षेत्र में पुन: पौधारोपण कार्यक्रम किया जाएगा। जिसके लिए जपं क्षेत्र को एक लाख पौधों के ग्रामीण क्षेत्र में रोपण का लक्ष्य दिया है। जपं कार्यालय ने भी ग्राम पंचायतों सहित मनरेगा उपयंत्रियों को पौधारोपण साईट्स सेलेक्शन का कार्य दिया है। जपं सीईओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी अनुसार प्रदेश स्तर से सोहागपुर जपं को एक लाख छायादार व फलदार किस्म के पौधे रोपने का लक्ष्य दिया है जो कि इस वर्ष भी जुलाई माह में सामूहिक रूप से किया जाएगा। इधर एपीओ प्रीति चावरे ने बताया कि इस वर्ष अलग-अलग किस्मों के पौधे रोपे जाने हैं। जिसकी साईट्स तय किए जाने का कार्य ग्रापं में सरपंच, सचिव, जीआरएस सहित संबंधित क्षेत्र के पीसीओ व उपयंत्रियों को करना होगा।

अतिक्रमण की बाधा
ग्रामीण क्षेत्र में पौधारोपण में बड़ी बाधा होगी शासकीय रिक्त भूमियों पर अतिक्रमण की। जिससे निपटना सदैव ही प्रशासन के लिए टेढ़ी खीर रहा है। क्योंकि अधिकतर अतिक्रमण या तो उस वर्ग द्वारा किए हैं, जिन्हें हटाना प्रशासन के लिए मुश्किल है या फिर दबंगों का भी शासकीय भूमि पर अतिक्रमण है, जिसे प्रशासन चाहकर भी हटाने से कतराता है। क्योंकि ये दबंग राजनैतिक रूप से प्रभावी भी हैं। मामले में राजस्व विभाग से प्राप्त जानकारी अनुसार पटवारियों से अतिक्रमण वाली शासकीय भूमियों की जानकारी ली जा रही है। जल्द ही यह रिपोर्ट भी अधिकारियोंं के टेबिल पर प्रस्तुत होगी।

दो श्रेणियों में होगा कार्य
चावरे ने बताया कि समुदाय व व्यक्तिगत श्रेणियों में पौधारोपण होगा। जिसमें सामूहिक रूप से होने वाले पौधारोपण में शासकीय रिक्त भूमियोंं का चयन ग्राम पंचायत मुख्यालय व इसके आश्रित ग्रामों में किया जा रहा है।
गत वर्ष का आंकड़ा
पौधों की संख्या दो लाख 67 हजार
साईट्स संख्या लगभग 400
विलोपित साईट्स लगभग 150(उद्यानिकी व कृषि विभाग)

sandeep nayak Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned