पूर्व मंडी उपाध्यक्ष की पत्नी की हत्या के मामले में तीन आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा

पूर्व मंडी उपाध्यक्ष की पत्नी की हत्या के मामले में तीन आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा

Manoj Kundoo | Publish: Sep, 08 2018 09:18:34 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

ग्राम बेलावाड़ा में लूटपाट करने के दौरान हुई थी मारपीट

इटारसी. बेलावाड़ा में रहने वाले पूर्व मंडी उपाध्यक्ष प्रवीण यादव (४०) के घर में लूटपाट और उनकी पत्नी सुमनबाई की हत्या के मामले में तीन आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। बुधवार को द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश प्रीति सिंह ने मामले में आरोपी लक्ष्मण उर्फ लालू पिता मन्नूलाल कोरकू, फूलसिंह पिता शंकरलाल कोरकू और रोहित उर्फ मोटा पिता लक्ष्मण उर्फ लालू बारसकर को आजीवन सश्रम कारावास की सजा सुनाई है।
लोक अभियोजक राजीव शुक्ला ने बताया कि ग्राम बेलावाड़ा में प्रवीण यादव के घर पर २५ सितंबर २०१५ की रात १०.३० बजे जब वह घर में सो रहे थे। लूटपाट करने आरोपी लक्ष्मण कोरकू, फूलसिंह और रोहित बारसकर घुसे थे। घर के भीतर खटपट की आवाज सुनकर प्रवीण और पत्नी सुमनबाई जाग गए। इसी बीच आरोपियों ने उन पर हमला करके गंभीर रूप से घायल कर दिया था। प्रवीण व सुमनबाई के चिल्लाने की आवाज सुनकर पड़ौस में रहने वाले चचेरे भाई नंदकिशोर, चाचा सुनील यादव भी आ गए। देखा तो भाई प्रवीण यादव और भाभी खून से लथपथ पड़े थे। घर का सामान बिखरा पड़ा था। आरोपी भाग चुके थे। हादसे की सूचना के बाद केसला जनपद के पूर्व उपाध्यक्ष ओपी यादव के आने के बाद भाई प्रवीण एवं भाभी सुमन को नर्मदा अपना अस्पताल भिजवाया गया। यहां इलाज के दौरान २६ नवंबर २०१५ को घायल सुमनबाई की मौत हो गई। जिसके बाद मामले में धारा ३९४ के बाद ३९७ और ३०२ बढ़ाई गई थी।
------------------
जीआरपी आरपीएफ की टीमें हुई सक्रिय
इटारसी। हरदा और खिरकिया के बीच भिरंगी रेलवे स्टेशन के पास आउटर पर दो ट्रेनों में लूट की वारदातों को अंजाम दिया गया। तीसरी ट्रेन में लूट की कोशिश असफल हो गई थी। जिन दो ट्रेनों में लूट की वारदात को अंजाम दिया गया था उनमें से एक ट्रेन के यात्रियों ने इटारसी स्टेशन पर बुधवार तड़के 4 बजे हंगामा किया।
एक ट्रेन भोपाल, दूसरी इटारसी रुकी
भिरंगी स्टेशन के पास लूट की वारदात १२१७३ लोतिट-लखनऊ उद्योग नगरी के ए-1 कोच के साथ ही दो अन्य कोचों में और ०१६५५ पुणे-जबलपुर एक्सप्रेस के बी-4 कोच में हुई थी। इनमें से १२१७३ लोतिट-लखनऊ उद्योग नगरी का स्टॉपेज इटारसी में नहीं होने से यह ट्रेन सीधे भोपाल के लिए रवाना कर दी गई और वहां पर जीआरपी कंट्रोल को मैसेज कर दिया गया। इधर ०१६५५ पुणे-जबलपुर एक्सप्रेस जब सुबह करीब 4 बजे इटारसी पहुंची।
ट्रेन रुकते ही भड़के यात्री
टे्रन के एसी कोच में यात्रियों से लूटपाट की घटना से यात्रियों में खासा गुस्सा था। जब यह ट्रेन स्टेशन पर आकर रुकी तो नाराज यात्रियों ने हंगामा कर दिया। सूचना मिलने पर जीआरपी और आरपीएफ के अधिकारी-कर्मचारी मौके पर पहुंचे। खुद जीआरपी टीआई बीएस चौहान ट्रेन अटेंड करने पहुंचे। यहां उन्होंने कोच में पीडि़त यात्रियों सुरेखा पति पवन कुमार निवासी जबलपुर और रोहिणी पति दीपक निवासी जबलपुर से पूरे मामले की जानकारी ली।
बुधवार को अफसर रहे चकरघिन्नी
दो ट्रेनों में लूट और तीसरी ट्रेन में लूट की विफल कोशिश की खबर जीआरपी-आरपीएफ के आला अफसरों को लगने के बाद हड़कंप मच गया। तत्काल ही जीआरपी और आरपीएफ के अधिकारी दल-बल के साथ मौके के लिए रवाना हुए। दोनों ही जांच एजेंसियों ने अपनी-अपनी टीमों को वारदात को अंजाम देने वालों का सुराग जुटाने के लिए सक्रिय कर दिया है।
दो ट्रेनों में यात्रियों के साथ लूटपाट की गई है। तीसरी ट्रेन में वे वारदात को अंजाम देने में सफल नहीं हो पाए थे। यात्रियों से नगदी-आभूषण सहित कुल 80 हजार रुपए के लगभग की लूट हुई है। इस मामले में अभी क्यूआईटी गई है। टीम के आने के बाद और जानकारी पता लगेगी
बीएस चौहान, थाना प्रभारी जीआरपी

Ad Block is Banned