सेना के लिए हथियार बनाने वाले 1000 से अधिक आयुध कर्मियों की दीवाली रहेगी फीकी

केंद्र से नहीं आया बोनस, पिछले साल दशहरा से पहले ही मिला था बोनस

इटारसी/इटारसी के आयुध फैक्ट्री के कर्मचारियों को बोनस का इंतजार है। पिछले साल इन कर्मियों को दशहरा से पहले बोनस मिल गया था, लेकिन इस बार अभी तक बोनस देने को लेकर प्रबंधन को केंद्र सरकार से ही हरी झंडी नहीं मिली है। कर्मचारियों को लग रहा है कि अगर अभी भी बोनस नहीं मिला, तो दीवाली फीकी रहेगी। आयुध निर्माणी फैक्ट्री केंद्र सरकार का उपक्रम है। यहां लगभग 1800 कर्मचारी और अधिकारी पदस्थ है।
इनमें से दो तिहाई कर्मचारी जो नान गेजेटेड आफिसर्स की श्रेणी में आते हैं, बोनस इन्ही कर्मियों को मिलना है। आयुध निर्माणी कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों के अनुसार सरकार को अभी तक बोनस दे देना चाहिए। पिछले कुछ सालों से बोनस हमेशा दशहरा के आसपास मिल जाता था, लेकिन इस बार दीपावली नजदीक आ चुकी। अभी तक बोनस नहीं मिला।
बोनस की राशि बढ़ाई जाए
पदाधिकारियों का कहना है कि कर्मियों को पिछले साल फिक्स बोनस 9211 रुपए मिले थे। इससे पहले भी औसतन यही राशि मिलती आई है। महंगाई के इस दौर में बोनस की राशि बहुत ही कम है। इसे बढ़ाई जानी चाहिए। कर्मचारी संघ के संयुक्त सचिव कुलदीप चौधरी ने कहा कि केंद्र सरकार अन्य सार्वजानिक उपक्रमों जैसे रेलवे, भेल आदि में उत्पादकता आधार पर अच्छा बोनस देती है, वही आयुध निर्माणी के साथ भेदभाव कर रही है। बोनस न देकर कर्मचारियों और उनके परिवार को त्यौहार मनाने से वंचित कर रही है।

बोनस की मांग को लेकर की नारेबाजी
आयुध निर्माणी के कर्मियों ने संस्था द्वारा बोनस नहीं दिए जाने को लेकर आज कारखाने के गेट पर काली पट्टी लगाकर करीब एक घंटे नारेबाजी की। इसके बाद काली पट्टी लगाकर कारखाने में ड्यूटी की। इस दौरान आयुध निर्माणी एम्पलाइज यूनियन से अनिल पटेल, भामसं से अमित बाजपेयी, इंटक से रूपेंद्र सिंह चौहान आदि समेत फैक्ट्री के कर्मचारी उपस्थित रहे। कर्मचारी नेताओं ने कहा है कि अगर तीन दिन में बोनस नहीं मिला, तो कर्मचारी धरना- प्रदर्शन करेंगे।

sandeep nayak
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned