पेड पार्किंग के नाम पर नगरपालिका ने लगाए सिर्फ बोर्ड

पेड पार्किंग के नाम पर नगरपालिका ने लगाए सिर्फ बोर्ड

yashwant janoriya | Publish: Sep, 11 2018 01:00:57 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

होशंगाबाद और इटारसी में जमीन पर नहीं उतरी पेड पार्किंग की योजना

होशंगाबाद. शहर और बाजार की यातायात व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए पेड पार्किंग की योजना फाइलों में बंद है। इटारसी और होशंगाबाद नपा ने पेड पार्किंग की योजना बनाई। शहर और बाजार में स्थान चिन्हित किए। पेड पार्किंग के बोर्ड भी लगाए, लेकिन योजना पर अमल नहीं हुआ। अब हालात यह हैं कि कुछ जगह से पेड पार्किंग के बोर्ड भी गायब हो चुके हैं। होशंगाबाद नपा के राजस्व सभापति अजय रतनानी ने बताया कि पेड पार्किंग की योजना बनाई गई थी। जिसके बाद शहर के चार स्थानों का चयन करके बोर्ड भी लगा दिया था, लेकिन पेड पार्किंग का विरोध होने से काम रुक गया। यही हाल इटारसी नपा का भी है। यहां दो बार पेड पार्किंग की योजना बनाई गई। पहले वर्ष 2005 में फिर इसके बाद वर्ष 2016 में बावजूद इसके अब तक पेड पार्किंग नहीं बनाए गए।
योजना में अड़ंगा - पेड पार्किंग होने से शुल्क का विरोध किया जा रहा था। इसी वजह से योजना पर काम नहीं हुआ।
अवैध वसूली की शिकायत पर किया था ठेका निरस्त - नपा इटारसी के पूर्व सभापति यज्ञदत्त गौर बताते हैं कि वर्ष 2005 में पेड पार्किंग के लिए नीमबाड़ा और गोठी धर्मशाला के सामने रेलवे स्टेशन रोड पर ठेका दिया गया था। ठेकेदार द्वारा निर्धारित शुल्क से अधिक वसूली की शिकायतें मिलने पर ठेका निरस्त कर दिया गया था। इसके बाद वर्ष 2016 में दोबारा काम हुआ। पेड पार्किंग का विरोध होने से काम अटका।

होशंगाबाद
यहां बनाए थे पेड पार्किंग : सतरस्ता, सेठानीघाट, मीनाक्षी चौक के पास, इंदिरा चौक
इतना शुल्क : दोपहिया वाहन से दो रुपए, चार पहिया वाहन से पांच रुपए
इटारसी
यहां बनाए थे पेड पार्किंग : नीमबाड़ा, गोठी धर्मशाला के सामने, जयस्तंभ रोड, रेस्ट हाउस के बाजू में
इतना शुल्क : दोपहिया वाहन से पांच रुपए, चार पहिया वाहन से दस रुपए
इनका कहना है
पिछले महीने हुई सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में पेड पार्किंग की योजना बनाई गई है। नपा ने जगह चिन्हित किया है। जल्दी ही योजना पर काम शुरू करेंगे।
अखिलेश खंडेलवाल, नपा अध्यक्ष

बाजार की यातायात को बेहतर बनाने के लिए पार्किंग का प्लान बना रहे हैं। अगर पेड पार्किंग की योजना पहले बनाई गई थी तो हम दिखवा लेते हैं।
अक्षत बुंदेला, सीएमओ

Ad Block is Banned