जमीनी विवाद में भाई ने भाई की कर दी हत्या, अब मिली यह सजा

जमीनी विवाद में भाई ने भाई की कर दी हत्या, अब मिली यह सजा

Sandeep Nayak | Publish: Sep, 04 2018 04:17:53 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

घर में घुसकर मारी थी कुल्हाड़ी

पिपरिया। अपने ही भाई की हत्या करने के मामले में आरोपी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। अपर जिला लोक अभियोजक सुनील चौधरी ने बताया कि हत्या के एक मामले में न्यायालय प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश आदेश कुमार जैन ने अभियुक्त रामचरण मालवीय आत्मज करोड़ी लाल मालवीय निवासी आदमगढ़ होशंगाबाद को दोषी पाते हुए मंगलवार को सश्रम आजीवन कारावास एवं 5000 रुपये के दंड से दंडित किया है। अभियुक्त रामचरण ने अपने सगे भाई राजेन्द्र की 25 फरवरी 2015 को ग्राम नयागांव में मृतक के घर पर कुल्हाड़ी से सिर में बार कर हत्या कर दी थी जिसकी रिपोर्ट मृतक की पत्नी ने बनखेड़ी थाने में की थी। थाना बनखेड़ी द्वारा अपराध क्रमांक 42/2015 में मामला पंजीबद्ध कर न्यायालय में पेश किया। अभियोजन की तरफ से उक्त मामले में 22 गवाह न्यायालय के समक्ष परीक्षित कराए गए सम्पूर्ण विचारण के बाद न्यायालय ने आरोपी को दोषी पाते हुए सश्रम आजीवन कारावास से दंडित किया है। अभियोजन की ओर से पैरवी अपर लोक अभियोजक सुनील चौधरी ने की ।

बलात्कार के आरोपी को आजीवन कारावास
पिपरिया/बनखेड़ी. प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश आदेश कुमार जैन की अदालत ने नाबालिग से बलात्कार के आरोपी के लिए शनिवार को उम्रकैद की सजा सुनाई है। न्यायाधीश ने आरोपी के वकील की दलीलों को खारिज करते हुए कहा आरोपी किसी भी दया का पात्र नहीं है। फैसले में न्यायाधीश ने कवियत्री सुभद्रा कुमारी चौहान की पंक्तियों का उल्लेख किया है जिसमें कहा कि 'आ जा बचपन, एक बार फिर देदे अपनी निर्मल शांति। व्याकुल व्यथा मिटाने वाले वह अपनी प्राकृत विश्रांतिÓ। न्यायाधीश से फैसले में कहा है कि दुष्कृत्य के परिणाम स्वरुप होने वाली पीड़ा बचपन व्यतीत होने के बाद भी नहीं जाती है।
इन धाराओं में सजा: न्यायाधीश ने आरोपी के खिलाफ धारा ३७६ ढ, आजीवन कारावास, धारा ४५० में ०७ साल, धारा ५०६ में एक साल सश्रम कारावास और तीन हजार अर्थदण्ड की सजा सुनाई है। फैसले में कोड किया है कि जीवन की अंतिम सांस तक आजीवन कारावास लागू रहेगा।

अतिरिक्त जिला अभियोजन अधिकारी कैलाश कुमार पटैल ने बताया २३ नवंबर २०१५ को बनखेड़ी के ग्राम चिल्लौद निवासी आरोपी दीपक पिता अशोक राय ३४ साल ने १४ वर्षीय बालिका से बलात्कार किया था। इसके बाद आरोपी ने जान से मारने की धमकी देकर कई बार हवस का शिकार बनाया था। एक दिन बालिका को पेट में दर्द की शिकायत पर जब मां अस्पताल लेकर पहुंची तो डॉक्टरों ने उसके गर्भवती होने की जानकारी दी। इसके बाद घटना का खुलासा हुआ।जिला अस्पताल में बालिका ने एक बालक को भी जन्म दिया है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned