बिजली कंपनी कार्यालय में धूल खा रहे इंदिरा किसान ज्योति योजना के प्रमाण पत्र

10 हार्स पावर तक की मोटरों पर किसानों को मिलना है लाभ

By: sandeep nayak

Published: 03 Mar 2019, 01:09 PM IST

सोहागपुर। कांग्रेस किसानों को लाभ देने के वायदे व वचन के साथ प्रदेश में सत्ता मेेें लौटी तथा किसानों को लाभ देना भी प्रारंभ किया गया। लेकिन बिजली कंपनी के सहयोग से इंदिरा किसान ज्योति योजना के लाभ के प्रमाण पत्र सोहागपुर ब्लॉक के ग्रामीण क्षेत्र में वितरित हो भी पाएंगे कि नहीं, यह कहना मुश्किल है। क्योंकि प्रमाण पत्र बिजली कंपनी कार्यालय में पड़े धूल खा रहे हैं।
पत्रिका पड़ताल में बात सामने आई है कि कांग्रेस ने विस चुनाव 2018 में वादा किया था कि अगर वह सत्ता में आती है तो प्रदेश के 10 हार्स पावर तक के फ्लैट रेट वाले पंपों के उपभोक्ताओं के आधे बिल माफ किए जाएंगे। कांग्रेस सत्ता में आई और कमलनाथ सरकार द्वारा योजना को इंदिरा किसान ज्योति योजना के नाम से लांच किया गया। साथ ही लोकसभा चुनाव में लाभ लेने की मंशा से किसानों को योजना के प्रमाण पत्र का वितरण भी शुरू कर दिया गया। लेकिन सोहागपुर ब्लॉक में किसानों को योजना के प्रमाण पत्र कब वितरित होंगे यह अज्ञात है। क्योंकि बड़ी संख्या में किसानों के प्रमाण पत्र बिजली कंपनी सोहागपुर के ग्रामीण क्षेत्रीय कार्यालय में पड़े हुए हैं। जिनकी कोई सुध लेने वाला नहीं है तथा प्रमाण पत्र यहां-वहां बिखर रहे हैं।

प्रमाण पत्र के अंत में दिए हैं यह निर्देश
बिजली कंपनी में धूल खा रहे इंदिरा किसान ज्योति योजना के प्रमाण पत्रों की अंतिम पंक्ति में उल्लेख है कि योजना के आंकड़े कंप्यूटर में डाले जाते हैं, जिसमें किसी तकनीकी गलती हो सकती है। आगे उल्लेख है कि इसलिए प्रमाण पत्र महत्वपूर्ण होगा तथा किसान अपने पास इसे सुरक्षित रखें। लेकिन यह तब होगा जब किसानों को उक्त प्रमाण पत्र वितरित किए जाएंगे।
27 से होना था वितरण
जानकारी अनुसार 27 फरवरी को प्रभारी मंत्री पीसी शर्मा की उपस्थिति में सोहागपुर में जय किसान फसल ऋण माफी योजना के तहत किसान सम्मेलन किया गया था। सम्मेलन में कुछ किसानों को चिन्हित किया था, जिन्हें ऋण माफी योजना के अलावा इंदिरा किसान ज्योति योजना के प्रमाण पत्र दिए जाने थे। कुछ किसानों को मंच से प्रमाण पत्र दिए भी गए, लेकिन उसके बाद किसानों को बिजली कंपनी द्वारा उक्त प्रमाण पत्र नहीं पहुंचाए गए हैं। जबकि ब्लॉक में योजना के लिए पात्र किसानों को पूर्व में ही चिन्हित किया जा चुका है।

यह है योजना और इसका लाभ
प्रदेश सरकार की योजना अनुसार 10 हार्स पावर तक के फ्लैट रेट वाले कृषि पंप उपभोक्ताओं अर्थात किसानों को 1400 रुपए प्रति हार्स पावर प्रतिवर्ष के स्थान पर मात्र 700 रुपए प्रतिवर्ष चुकाने होंगे। शेष 700 रुपए प्रतिवर्ष की राशि प्रदेश सरकार द्वारा बिजली कंपनी को चुकाई जाएगी। इसी प्रकार पांच हार्स पावर के फ्लैट रेट कृषि उपभोक्ताओं के वार्षिक बिल में से किसान द्वारा सात हजार रुपए के स्थान पर 3500 रुपए दिए जाएंगे तथा शेष राशि लगभग राज्य सरकार द्वारा किसानों के हित में बिजली कंपनियों को चुकाई जाएगी। इसी प्रकार से 10 हार्स पावर तक के मीटर लगे सिंचाई पंप उपभोक्ताओं एवं अस्थायी सिंचाई पंप उपभोक्ताओं की प्रति यूनिट दर को भी आधा किए जाने की घोषणा प्रदेश सरकार द्वारा की गई है। जबकि इसी योजना में यह भी शामिल किया गया था कि एससी-एसटी के एक हैक्टेयर तक भूमि वाले किसानों को पहले की तरह विद्युत बिलों में पूरी छूट रहेगी।
& प्रतिदिन हमारे द्वारा कर्मचारियों के माध्यम से संबंधित किसानों को इंदिरा किसान ज्योति योजना के प्रमाण पत्र पहुंचाए जा रहे हैं। सभी फार्म ग्रामीण क्षेत्र के हैं, इसलिए समय लगेगा। जल्द ही सभी को प्रमाण पत्र पहुंच जाएंगे।
-आरके दुबे, जेई ग्रामीण, मप्रमक्षेविविकं, सोहागपुर।

sandeep nayak Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned