घटिया निर्माण की खुली पोल, दीवारों में सीलन, छत से टपक रहा पानी

घटिया निर्माण की खुली पोल, दीवारों में सीलन, छत से टपक रहा पानी

Manoj Kumar Kundoo | Publish: Sep, 08 2018 09:01:07 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

आईएचएसडीपी योजना से बनाए गए घरों का हाल, पक्के घरों के फर्श भी हो चुके हैं खराब, पार्षद की शिकायत पर भी नहीं हुई सुनवाई

इटारसी. आईएचएसडीपी योजना से बनाए गए मकानों में किए गए घटिया निर्माण की पोल खुल गई है। बारिश से दीवारों में सीलन और छत से पानी टपक रहा है। हालात यह है कि घरों के फर्श तक पूरी तरह जर्जर हो चुके हैं। ऐसे में हितग्राहियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उल्लेखनीय है कि एकीकृत आवास एवं मलिन बस्ती विकास परियोजना (आईएचएसडीपी) के तहत 153 मकान बनाकर गरीबों को आवंटित किया गया था। इन घरों में रह रहे लोगों की समस्या को देखते हुए पार्षद अमृता ठाकुर ने नपा में मरम्मत कराने व संबंधित ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। बावजूद इसके शिकायत पर सुनवाई नहीं हुई।
छतें लीकेज, दीवारों से रिसाव
मकानों का काम वर्ष 2015 में पूरा हुआ था और जून 2016 में लॉटरी सिस्टम से मकान आवंटित किए गए। अभी वर्ष 2018 चल रहा है यानी महज दो साल में ही मकानों की छतों से पानी टपकने लगा है और दीवारों से पानी की धार रिस रही है। लगभग सभी मकानों के यही हालात हैं। तेज बरसात में लोगों को इन मकानों में जगह-जगह बर्तन रखने को मजबूर होना पड़ता है। छत और दीवारों के रिसने के कारण इन परिवारों को रात में सोने तक की जगह नहीं मिल रही है।
शिकायत पर नहीं हो रही सुनवाई
जो परिवार अभी यहां रह रहे हैं वे पिछली दो बरसात से परेशान हैं। छत और दीवारों से पानी रिसने की शिकायतें करने के बावजूद उनकी समस्या की सुनवाई नहीं हुई है। यहां रह रहे लेागों ने बताया कि कई इस संबंध में नपा के अधिकारियों को बताया गया, लेकिन अब तक राहत नहीं मिली।

फैक्ट फाइल
योजना : आईएचएसडीपी
-153 मकान
-स्वीकृति वर्ष 2007
-लागत 2 करोड़ रुपए

इनका कहना है...
आईएचएसडीपी के मकानों में आ रही इस समस्या को लेकर नपा प्रशासन से चर्चा की थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।
-अमृता ठाकुर, वार्ड पार्षद।
हम दिखवा लेते हैं कि वहां कितने मकानों में इस तरह की समस्या आ रही है। समस्या का निराकरण किया जाएगा।
-अक्षत बुंदेला, सीएमओ नपा।
-------------------
बारिश ने खोली ड्रेनेज व्यवस्था की पोल
इटारसी. शहर में डे्रेनेज करा क्या हाल है। इसका पता थोड़ी तेज बारिश में ही चल जाता है। मंगलवार शाम को हुई थोड़ी देर की बारिश में ही शहर के कई इलाकों में नालियों का पानी सड़कों पर आ गया। ऊंची सड़कें और पानी निकासी का इंतजाम नहीं होने से सबसे ज्यादा सिंधी कॉलोनी, लाइन एरिया, बाजार क्षेत्र, महर्षि नगर, तिरूपति नगर सहित पुरानी इटारसी इलाकों में पानी भर जाने की समस्या का सामना लोग करते हैं।
कागजों में ही रह गया प्लान
तत्कालीन एसडीएम राजकुमार खत्री ने सीपीई और जुझारपुर की तरफ से शहर में आने वाले बरसाती नालों को डायवर्ट करने का प्लान पूर्व में बनाया था। जिसका सर्वे भी नपा के साथ मिलकर किया गया था। बावजूद इसके अब तक यह प्लान कागजों से बाहर नहीं निकला।
-------------------

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned