10 प्रतिशत सवर्ण आरक्षण में उलझी कॉलेजों में दूसरे चरण की प्रक्रिया

पोर्टल भी हो गया बंद

By: sandeep nayak

Published: 07 Jul 2019, 12:57 PM IST

इटारसी। राज्य सरकार द्वारा सामान्य वर्ग के लोगों को 10 फीसदी आरक्षण देने के निर्णय के बाद उच्च शिक्षा विभाग ने इटारसी- होशंगाबाद समेत प्रदेश भर के कॉलेजों में दूसरे चरण की प्रवेश प्रक्रिया और पहले चरण के काउंसिलिंग को रोक दिया है। पंजीयन के लिए बने पोर्टल को अपडेट किया जा रहा है। इस वजह से पोर्टल नहीं खुलने से शहर के हजारों विद्यार्थी परेशान है।
दूसरे चरण की एडमिशन प्रक्रिया को लेकर इटारसी के एमजीएम और गल्र्स कॉलेज के विद्यार्थी परेशान है। बताया जाता है कि दूसरे राउंड की लिंक आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (जो एससी, एसटी, ओबीसी को आरक्षण की परिधि के बाहर के) आरक्षण लागू होने की वजह से बंद कर दी गई। उच्च शिक्षा विभाग एक-दो दिन में नया शेड्यूल जारी करने का दावा कर रहा है। उच्च शिक्षा विभाग की ओर से पोर्टल बंद होने से काउंसिलिंग और दूसरे चरण में पंजीयन की प्रक्रिया में रोक दी गई है। इससे शिक्षक भी हेल्प सेंटर पर खाली बैठे नजर आ रहे हैं। वहीं स्टूडे्टस हर रोज कॉलेज पहुंचकर एडमिशन की प्रक्रिया शुरू होने की जानकारी मांग रहे हैं।

...तो सींटे बढ़ेंगी
विभाग का कहना है कि सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण देने के लिए सॉफ्टवेयर अपडेट किया जा रहा है। अधिकारियों का कहना है कि 10 फीसदी आरक्षण लागू करने के लिए 25 फीसदी सीटें बढ़ानी होगी। पूरी प्रक्रिया में अभी तीन- चार दिन का समय लगेगा। आरक्षण लागू होने के कारण कॉलेजों में सीटों की संख्या में फेर-बदल की संभावना है। चूंकि ऑनलाइन काउंसलिंग के सॉफ्टवेयर में नई सीटें अपडेट होंगी। इसलिए विभाग ने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया रोक दी है। विभाग का कहना है कि 10 फीसदी आरक्षण का लाभ लेने के लिए विद्यार्थियों को तहसीलदार से प्रमाण पत्र लेना होगा।

 

&आरक्षण के कारण पोर्टल को अपडेट करने के लिए उच्च शिक्षा विभाग ने प्रवेश पंजीयन प्रक्रिया में कुछ समय के लिए रोक लगाई है। जैसे ही प्रक्रिया शुरू हो जाएगी, छात्राएं पंजीयन करा सकती है।
- डॉ. कुमकुम जैन, प्राचार्य, शासकीय गल्र्स कॉलेज, इटारसी
&उच्च शिक्षा विभाग ने आरक्षण के कारण पोर्टल को अपडेट करने के लिए प्रवेश प्रकिया पर रोक लगाई है। संभवत: 9-10 जुलाई तक प्रक्रिया पूरी होते ही पोर्टल खोल को खोल दिया जाएगा। उसके बाद छात्र पंजीयन करा सकते हैं।
डॉ. पीके पगारे, प्राचार्य, शासकीय एमजीएम पीजी कॉलेज, इटारसी

sandeep nayak Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned