जिस भवन में रहकर पढ़ाई करती हैं छात्राएं, वहीं की सुरक्षा में हैं खामियां

प्राचार्य ने कहा छात्राएं रहेंगी सुरक्षित होना चाहिए छात्रावास , पीडब्ल्यूडी ने नहीं किया कॉलेज प्रबंधन को हैंड ओवर

इटारसी/शासकीय गल्र्स कॉलेज की छात्राओं के लिए बने नए हॉस्टल में सुरक्षा की कई खामियां है। पीडब्लयूडी ने हॉस्टल को बना दिया, लेकिन अभी तक इमसें न तो मेन गेट लगाए, न ही परिसर में खुले पड़े टेरेस को बंद किया। केवल बाउंड्रीवाल बनाई है, जोकि लड़कियों के लिए बिल्कुल सुरक्षित नहीं है। हॉस्टल परिसर और बगल में लोगों ने अतिक्रमण कर रखा है, जिसे हटाने प्राचार्य ने प्रशासन को पत्र लिखा है।
इस हॉस्टल का निर्माण 2013 में ट्रेजरी भवन के बगल में शुरू हुआ था। यूजीसी ने इस भवन के लिए लगभग 780 वर्गमीटर आवंटित किया था, जिस पर 80 लाख रुपए पहले चरण में दिया था। इसमें से 72 लाख रुपए में भवन का निर्माण किया गया। निर्माण एजेंसी पीडब्लयूडी ने भवन बनाने में पांच साल लगा दिए। इस हॉस्टल में 10 कमरे, किचन, टॉयलेट, कॉमन रूम समेत 30 लड़कियों के रहने की क्षमता है।
इसके बाद कॉलेज प्रबंधन ने फिर से बाउंड्रीवाल के लिए यूजीसी से 13 लाख रुपए दिया। पीडब्लयूडी की लेटलतीफी से एक साल में बाउंड्रीवाल बनी। अब तक मेन गेट भी नहीं लगा है, वही हॉस्टल के भीतर ओपन टेरेस को भी बंद नहीं किया गया है। इस वजह से कॉलेज प्रबंधन हॉस्टल का अधिग्रहण नहीं कर रही है।

सात साल में भी नहीं हुआ हैंडओवर
कॉलेज प्रबंधन का कहना हैकि इस हॉस्टल भवन के निर्माण में 7 साल लग गए, फिर भी ठेकेदार इसे अभी तक पूर्ण नहीं कर पाया है। जबकि कॉलेज की प्राचार्य ने
पीडब्ल्यूडी को दो दर्जन से अधिक पत्र लिख चुकी है। उसके बाद भी हॉस्टल अभी तक कॉलेज को हैंडओवर नहीं हो पाया है।
दो बार पुताई करवानी पड़ी..
नवनिर्मित गल्र्स हॉस्टल को हाल ही में ठेकेदार ने दोबारा पुताई करवाया। 2018 में पहली बार पुताई करवाई थी, लेकिन दो साल में पुताई खराब हो गई। आसपास के झुग्गी के बच्चों ने दीवार पर पेन- पेसिंल और चाक से लिख डाले थे। इससे भवन की खूबसूरती बिगड़ गई थी।
अतिक्रमण से घिरा परिसर
भवन की सुरक्षा के लिए कोई भी चौकीदार नहीं रखा गया है। जिसका फायदा आसपास के झुग्गी के लोगों ने उठाया और परिसर में अतिक्रमण कर लिया है। जिसे हटाना बहुत जरूरी है। गल्र्स कॉलेज प्रबंधन ने अतिक्रमण हटाने के लिए पीडब्ल्यूडी को पत्र लिखा है। अब पीडब्ल्यूडी नपा या एसडीएम से कहकर अतिक्रमण हटाएगी। अतिक्रमण के कारण कुछ जगह की बाउंड्री नहीं बन पाई है। उसे बनाने के बाद ही हॉस्टल में लड़कियों के रहने लायक तैयार हो जाएगा।

वर्जन
गल्र्स हॉस्टल भवन और बाउंड्रीवाल का निर्माण हो गया, लेकिन पीडब्ल्यूडी ने अभी तक हमें भवन नहीं सौंपा है। अभी भी लड़कियों की सुरक्षा की दृष्टि से कुछ कमियां है। परिसर में अतिक्रमण हटाने को लेकर पीडबल्यूडी को पत्र लिखा है। हम जब तक सुरक्षा के लिहाज से सतुंष्ट नहीं होंगे, तब तक भवन का अधिग्रहण नहीं करेंगे।
- डॉ. कुमकुम जैन, प्राचार्य, शासकीय गल्र्स कॉलेज, इटारसी।

sandeep nayak
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned