70 साल के हॉस्टल संचालक ने महिला साथी की मदद से मूक बधिर छात्रा से किया बलात्कार, देता था ऐसी खौफनाक सजाएं

70 साल के हॉस्टल संचालक ने महिला साथी की मदद से मूक बधिर छात्रा से किया बलात्कार, देता था ऐसी खौफनाक सजाएं

sandeep nayak | Publish: Sep, 16 2018 12:17:15 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

प्रशासन और पुलिस ने दबा दिया था मूक बधिर से बलात्कार का मामला

होशंगाबाद। डेढ़ साल पहले मूक बधिर युवती के साथ हुई बलात्कार की घटना को पुलिस और प्रशासन ने दबा दिया था। उसी मामले में अब भोपाल पुलिस ने बलात्कार सहित अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया है। आरोपी हॉस्टल संचालक ने अपनी एक महिला साथी की मदद से मूक बधिर छात्रा के साथ कई सालों तक बलात्कार किया। शादी के बाद मुंक बधिर ने अपनी पीड़ा जाहिर की तब इस मामले का खुलासा हुआ वरना पुलिस और प्रशासनिक ने जांच के नाम पर इस घिनौने कृत्य को दफन कर दिया था।
भोपाल पुलिस ने जीरो पर मामला दर्ज कर केस डायरी होशंगाबाद भेजी। तब पुलिस ने आरोपी साईं विकलांग आश्रम (हॉस्टल) के संचालक एमपी अवस्थी और आश्रम की केयर टेकर कविता चौहान के खिलाफ ब्लात्कार और पास्को एक्ट सहित विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया है।
यह है समूचा घटनाक्रम
पीडि़त मूकबधिर छात्रा वर्ष 2004 में होशंगाबाद आई थी। इसे मालाखेड़ी साईं विकलांग अनाथ आश्रम में रखा गया था। वर्ष 2010-11 में आश्रम संचालक एमपी अवस्थी ने उसके साथ बुरा काम किया था। इस कृत्य में केयर टेकर कविता चौहान ने साथ दिया था। मानसिक प्रताडऩा और शारीरिक शोषण से तंग आकर पीडि़त छात्रा को यहां से भोपाल के आशा निकेतन स्कूल में वर्ष 2012 में शिफ्ट कराया गया था। पीडि़ता यहां 2016 तक रही, लेकिन आश्रम संचालक अवस्थी उसे 16 मई 2016 को फिर अपने होशंगाबाद मालाखेड़ी स्थित आश्रम में ले आया। इसके बाद फिर उसका यौन शोषण करता रहा। पीडि़ता यहां फरवरी 2017 तक रही। उसने कुछ लोगों की मदद से फिर शोषण की शिकायत की। जिसके बाद महिला सशक्तिकरण विभाग के अधिकारी ने उक्त पीडि़ता को होम साइंस कॉलेज के छात्रावास में शिफ्ट कराया था। इसके बाद उसकी शादी भोपाल के एक युवक से करा दी गई। जिसका सारा खर्चा सरकारी तौर पर उठाया गया था।

ऐसे किया मामला रफा दफा
मूक बधिर छात्रा के साथ हुए इस कुकृत्य को प्रशासन और पुलिस ने जांच के नाम पर रफा-दफा कर दिया। यही कारण था कि आरोपी के हौसले इतने बुलंद हुए कि उसने एक नहीं कई छात्राओं के साथ यौन शोषण किया। यदि पुलिस और प्रशासन उसी समय सख्त कार्रवाई कर देते तो कई अन्य छात्राएं शोषण की शिकार होने से बच जाती। शिकायत के बाद तत्कालीन कलेक्टर अविनाश लवानिया और तत्कालीन एसपी आशुतोष प्रताप सिंह के साथ महिला बाल विकास ने मामले की जांच कराई, लेकिन कार्रवाई के नाम पर सिर्फ उसका हॉस्टल बंद करा दिया गया। अब पीडि़त 24 वर्ष की हो चुकी है और उसकी शादी भी हो चुकी है। जिस वक्त उसके साथ शारीरिक शोषण हुआ उस समय वह नाबालिग थी। तत्कालीन कलेक्टर लवानिया के निर्देश पर तत्कालीन एसडीएम मनोज उपाध्याय ने जांच की थी। जांच प्रतिवेदन में उन्होंने मानसिक व शारीरिक शोषण की शिकायत को सही पाया था। इस रिपोर्ट के आधार पर तत्कालीन कलेक्टर ने आरोपी एमपी अवस्थी की साईं विकलांग अनाथ संस्था आश्रम को बंद करा दिया था और शासकीय अनुदान भी बंद करा दिया था। जांच रिपोर्ट पर सामाजिक न्याय विभाग ने न तो पुलिस में एफआईआर दर्ज करवाई न ही कोई कार्रवाई के लिए कदम उठाया।
भोपाल के नितिन कुलकर्णी से हुई है शादी
इस पीडि़त मूक-बधिर युवती की शादी 10 फरवरी 2018 को होमसाइंस कॉलेज में वैवाहिक कार्यक्रम आयोजित कर सरकारी खर्चे पर भोपाल के नितिन कुलकर्णी नामक युवक से शादी कराई गई थी। इसी बीच हाल में ही पीडि़ता ने समाजसेवी रणजीत सिंह ठाकुर को अपनी व्यथा सुनाई। इसके बाद पीडि़ता की रिपोर्ट पर टीटी नगर थाना भोपाल में शून्य पर आरोपी एमपी अवस्थी, कविता चौहान के खिलाफ केस दर्ज डायरी होशंगाबाद कोतवाली को भेजी गई है।

कोतवाली ने इन धाराओं पर दर्ज किया केस
कोतवाली थाना ने शनिवार को साईं विकलांग अनाथ आश्रम के संचालक आरोपी एमपी अवस्थी के खिलाफ धारा 376, 376(एल), 376(एम), 323, 294, 506, 34 सहित 5-6 पाक्सो एक्ट सहित धारा का केस दर्ज किया है। इस मामले में केयर टेकर कविता चौहान को भी सह आरोपी बनाया गया है। देहिक शोषण का एक अन्य केस भोपाल के खजूरी थाना में भी दर्ज हुआ है।

Ad Block is Banned