कोरोना के चलते एकेडमी बंद हुई तो खेत पर पिता का हाथ बंटा रही ये अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी

छोटे से गांव से निकलकर किसान की इस बेटी ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बनाई अपनी पहचान, पिता के साथ खेत में भी बंटाती है हाथ..

होशंगाबाद. कहते हैं कि इंसान को हमेशा माटी से जुड़ा होना चाहिए वो कितनी भी कामयाबी हासिल क्यों न कर ले उसे अपने देश अपने गांव की मिट्टी से जुड़ा रहना चाहिए, कुछ ऐसी ही एक अंतर्राष्ट्रीय महिला खिलाड़ी के बारे में हम आज आपको बता रहे हैं जो अंतर्राष्ट्रीय स्तर की खिलाड़ी होने के बाद भी अपनी मिट्टी से जुड़ी हुई हैं। कोरोना काल में जब एकेडमी बंद है तो ये खिलाड़ी खेत में पिता का हाथ बंटा रही है। इस महिला खिलाड़ी का नाम है हर्षिता तोमर। हर्षिता होशंगाबाद जिले के छोटे से गांव रैसलपुर की रहने वाली हैं उनके पिता देवेन्द्र तोमर किसान हैं। हर्षिता ने सेलिंग (नौकायान) खिलाड़ी के तौर पर देश-विदेश में अपनी पहचान बनाई है और अपने जिले ही नहीं बल्कि पूरे प्रदेश का मान बढ़ाया है।

 

harshita_05.jpg

खेत में पिता का हाथ बंटा रही खिलाड़ी
धान के खेत में पिता का हाथ बंटा रही हर्षिता तोमर ने पत्रिका से बात करते हुए बताया कि कोरोना महामारी और लॉकडाउन के चलते पांच महीने से खेल गतिविधियां बंद हैं। भोपाल की एकेडमी भी बंद है इसलिए वो इन दिनों अपने गांव में हैं और खेती व मछलीपालन में पिता का हाथ बंटा रही हैं। उन्होंने उम्मीद जताते हुए आगे कहा कि उम्मीद है कि जल्द ही खेल एकेडमी की गतिविधियां शुरु हो जाएंगी और वो एक बार फिर खेल के मैदान में उतर सकें। उन्होंने कहा कि उन्होंने ओलंपिक में भाग लेने के लिए काफी तैयारियां करनी हैं और उनका लक्ष्य अब भारत के लिए ओलंपिक में मैडल जीतना है।

 

harshita_02.jpg

जब पत्रिका की टीम हर्षिता से मिलने के लिए पहुंची तो हर्षिता धान के खेत में मजदूरों के साथ रोपाई के साथ ही घास साफ कर रही थीं। इतना ही नहीं उन्होंने ये भी बताया कि वो रोजाना ऑनलाइन पढ़ाई व खेल की प्रैक्टिस करने के बाद मछलियों को दाना खिलाने के लिए जाती हैं और पिता के साथ खेत में काम करती हैं।

harshita_6.jpg

16 साल की उम्र में एशियाई खेलों में जीता ब्रॉन्ज
तैराकी से शुरु हुआ हर्षिता का सफर 8 साल में सेलिंग (नौकायान) तक पहुंचा। साल 2018 में इंडोनेशिया के जकार्ता और पालेमबांग में हुए एशियाई खेलों में हर्षिता ने महज 16 साल की उम्र में 4.7 ओपन लेजर सेलिंग चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया था। हर्षिता सेलिंग में मेडल जीतने वाली भारत की सबसे छोटी महिला सेलर बनीं थीं।

 

shivraj.jpg

सीएम शिवराज ने बताया था प्रदेश का गौरव
हर्षिता के एशियाड खेलों में ब्रॉन्ज मेडल जीतने के बाद मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हर्षिता की तारीफ करते हुए ट्वीट कर उन्हें प्रदेश का गौरव बताया था और 50 लाख रुपए इनाम देने का ऐलान भी किया था।

कोरोना से बचने का दिया संदेश
हर्षिता तोमर ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सभी को संदेश भी दिया है उन्होंने कहा कि कोरोना से खुद को और अपने परिवार को बचाने के लिए सोशल डिस्टेंस अपनाएं, मास्क लगाएं और बाहर भीड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें।

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned