सुखद संकेत: लॉकडाउन 3.0 में ढाई गुना बढ़ा सैंपलिंग

रिकवरी दर 52 प्रतिशत तो मृत्युदर करीब 8.3 फीसदी रही

By: poonam soni

Published: 05 May 2020, 09:06 PM IST

होशंगाबाद. लॉकडाउन फेस 3 सोमवार से शुरू हो गया है। पिछले दो लॉकडाउन में जिले में सैंपलिग बढ़ी है साथ ही पॉजिटिवों की संख्या भी बढ़ी है। वैसे स्वास्थ्य विभाग का मानना है कि 17 मई तक आते-आते होशंगाबाद जिला ग्रीन जोन में आ जाएगा। दोनों लॉकडाउन की तुलना करें तो पहले लॉकडाउन में 15 पॉजिटिव थे, जो दूसरे में बढ़कर 36 हो गए। रिकवरी दर भी 52 प्रतिशत रही। तो मृत्यु दर 8.3 फीसदी रही। ऐसे में संकेत हैं कि तीसरे लॉकडाउन में जिले में तेजी से सुधार होगा। सोमवार को इटारसी में 30 व 2 होशंगाबाद में सैंपल हुए हैं।


तेजी से मरीजों को पकड़ा है
सीएमएचओ डॉ. सुधीर जैसानी ने बताया कि कोरोना संक्रमण को रोकने सर्वे, स्क्रीनिंग और सैंपलिंग समय-समय पर पर बढ़ाई। आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के सर्वे से हाई रिस्क व स्क्रीनिंग टीम से कोरोना के संदिग्ध मरीजों की जानकारी मिली। इस इनपुट के आधार पर कोरोना संदिग्ध की श्रेणी में आने वालों की सैंपलिंग कराई गई। अब तेजी से मरीज ठीक होकर घर को वापस हो रहे हैं। चार पॉजीटिव मरीजों को री-सैंपल कराया गया है।

जिला अस्पताल पहुंचा इटारसी का मरीज, अधिकारियों को सूचना के बाद भोपाल रैफर किया
होशंगाबाद. रविवार रात को इटारसी से सर्दी-खांसी का एक मरीज पहले निजी अस्पताल और फिर जिला अस्पताल में उपचार कराने के लिए पहुंचा था। पर उच्चाधिकारियों को सूचना मिलने के बाद मरीज को सीधे भोपाल रैफर कर दिया गया। इसके बाद अस्पताल में इटारसी के मरीज को लेकर हंगामा मच गया। दरअसल इटारसी से आने वाले मरीजों को सीधे जिला अस्पताल में भर्ती करने पर रोक है। इसके बाद आनन-फानन में बुधवार को सीएमएचओ डॉ.सुधीर जैसानी ने अस्पताल के डॉक्टरों की बैठक लेकर सभी डॉक्टरों के लिए फटकार लगाई। सीएमएचओ ने कहा कि इटारसी से आए मरीज को भर्ती करने पर पूरी तरह से फॉलो करनी की जिम्मेदारी संबंधित डॉक्टर की होगी। इसमें मरीज को देखने वाले डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टॉफ को बताना होगा कि मरीज रेड जोन के क्षेत्र से है। इधर, दोपहर में इसी मामले को लेकर जिपं सीईओ आदित्य सिंह ने बैठक लेते हुए संक्रमित क्षेत्र के मरीजों को इटारसी ही भेजने और मरीज को रैफर करने के पहले सीएस और सीएमएचओ की अनुमति लेने के निर्देश दिए। बैठक के दौरान सीएस डॉ.रविंद्र गंगराडे, डॉ.जेपीएन चतुर्वेदी, डॉ.जीसी सोनी व अन्य लोग मौजूद थे।

जिला अस्पताल में लगातार संक्रमित क्षेत्र के मरीजों के आने से भय की स्थिति रहती है। हमने सीधे इटारसी के मरीजों को लेने से मना किया है। अगर संक्रमित क्षेत्र का मरीज है तो वो आईसोलेशन में रखा जाए। हालांकि इससे अच्छा मरीज को इटारसी वापस भेजना होगा। जहां उसे उपचार मिल सकेगा।।
डॉ सुधीर जैसानी, सीएमएचओ, होशंगाबाद

इस तरह गुजरे लॉकडाउन के चरण
पहला लॉकडाउन
24 मार्च से 14 अप्रेल का
146 सैंपलिंग
15 पॉजिटिव मरीज
10.26 टेस्ट पॉजिटिव रेट
00 मौत

दूसरा लॉकडाउन
15 अप्रेल से 03 मई का
400 सैंपलिंग
21 पॉजिटिव मरीज
05.26 टेस्ट पॉजिटिव रेट
03 मौत

दोनों लॉकडाउन मिलाकर
546 सैंपलिंग
36 पॉजिटिव
19 डिस्चार्ज
03 मौत

फैक्ट फाइल
546 कुल सैंपल
36 कुल पॉजिटिव
408 कुल नेगेटिव
108 लंबित सैंपल
19 कुल डिस्चार्ज
03 कुल मौत

जिला अस्पताल के स्टॉफ की रिपोर्ट नेगेटिव
होशंगाबाद. होशंगाबाद के डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर स्वास्थ्य विभाग ने राहत की सांस ली है। दो दिन पहले जिला अस्पताल स्टॉफ के सैंपल सीधे कोविड-19 के मरीज के संपर्क में आने के कारण लिया गया था। इसमें डॉ.रीतिका जैन, स्टाफ नर्स मनीषा चौहान, पैरामेडिकल कृष्णा सहित एक अन्य के सैंपल लिए थे।

Show More
poonam soni
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned