ठेकेदार की लापरवाही से अटका सीवरेज लाइन प्रोजेक्ट, शहरी विकास कंपनी ने कार्रवाई के लिए लिखा पत्र

विधानसभा में किया गया था सीवर लाइन प्रोजेक्ट को लेकर सवाल, इटारसी में तो अभी फाइल से बाहर ही नहीं आई योजना

By: Manoj Kundoo

Published: 15 Sep 2021, 08:51 PM IST

इटारसी/होशंगाबाद
होशंगाबाद में अंडरग्राउंड सीवरेज लाइन प्रोजेक्ट का मामला विधानसभा पहुंचने के बाद भी काम कछुआ गति से चल रहा है। विधायक डा. सीतासरन शर्मा ने मामले में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह से योजना के संबंध में मार्च २०२१ में सवाल किया था। जिसमें पता चला कि सीवरेज प्रोजेक्ट का काम पंपिंग स्टेशन तक जाने का रास्ता नहीं होने से अटका हुआ था। इधर इटारसी में तो सीवरेज लाइन प्रोजेक्ट का काम अभी शुरू भी नहीं हुआ है। आईएचएसडीपी योजना के तहत सात करोड़ रुपए के सीवर प्रोजेक्ट में जल आवर्धन की वजह से रोड़ा अटका हुआ है। शर्त के मुताबिक जब तक शहर के प्रति व्यक्ति को प्रति दिन १३५ लीटर पानी की सप्लाई नहीं की जाती, सीवर लाइन प्रोजेक्ट को लागू नहीं किया जा सकता। यही वजह है शहर में सीवर लाइन प्रोजेक्ट का काम शुरू नहीं हुआ।

वर्ष २००८ में स्वीकृत हुई थी योजना-
इटारसी में योजना पर काम शुरू करने के लिए केंद्र सरकार को 80 व राज्य और निकाय को 10-10 प्रतिशत का अनुदान देना था। राज्य सरकार और निकाय की धनराशि जमा होने के बाद केंद्र ने पहली किश्त के रूप में 1 करोड़ 41 लाख 69 हजार रुपए 14 जुलाई 2008 को नगरपालिका इटारसी को भेज दी गई थी। इसमें राज्य से 17 लाख 71 हजार और निकाय ने 18 लाख रुपए का अनुदान दिया था।

गुडगांव की ठेका कंपनी के पास है काम-
ग्राम किशनपुर की खसरा क्रमांक ४/२ रकबा ०.५८७ हैक्टेयर में से १३११.१५ वर्गमीटर की निजी भूमि पर मुख्य पंपिंग स्टेशन प्रस्तावित है। इस कार्य के लिए २ करोड़ ९० लाख रुपए की स्वीकृति भी मिल चुकी है। ज्ञात हो कि वर्ष २०१८ में स्वीकृत योजना का समस्त कार्य निविदाकार मेसर्स तहल कन्सल्टिंग इंजीनियर्स लिमिटेड गुडगांव द्वारा किया जाना है। जिसके लिए १३९.६८ करोड़ रुपए की स्वीकृति दी गई है।

पहले जमीन की वजह से अटका था काम-
मप्र शहरी विकास कंपनी लिमिटेड के साथ हुए अनुबंध के आधार पर २९ सितंबर २०१८ को एसटीपी की स्वीकृति हुई थी। २८ सितंबर २०२० तक यह निर्माण कार्य पूरा होना था। अनुबंध होने के बाद वर्ष २०१९ तक नपा कंपनी को एसटीपी के लिए जगह मुहैया नहीं करा पाई।

फैक्ट फाइल-
-सीवर लाइन : १९६ किमी
-हाउस चैंबर : १३९७४
-पंपिंग स्टेशन : ०१
-इंटरमीडिएट पंपिंग स्टेशन : ०४
-ट्रीटमेंट प्लांट की क्षमता : २१ एमएलडी
-मैनहोल : ३१६५

इनका कहना है...
सीवर लाइन प्रोजेक्ट के काम की रफ्तार बहुत धीमी है। ठेकेदार काम ही नहीं कर रहा है। ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई के लिए पत्राचार किया है। पंपिंग स्टेशन की जमीन का अवार्ड पारित होना है। फाइल कलेक्ट्रेट में जमा है।
-आनंद सिंह, प्रोजेक्ट इंचार्ज एमपीयूडीसी

Manoj Kundoo Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned