चुनाव के पहले ही शुरू हो गई यहां वोट की राजनीति, पढ़ें पूरा मामला

शहर में सक्रिय झुग्गी माफिया, खाली सरकारी जमीन पर बन रहीं झुग्गियां

By: sandeep nayak

Published: 06 Jan 2020, 12:58 PM IST

होशंगाबाद/शहर में आगामी नपा चुनाव को लेकर बोट की राजनीति शुरू हो गई है। एंटी माफिया अभियान जारी होने के बाद भी शहर में झुग्गी और भू-माफिया सक्रिय हैं। खाली पड़ी सरकारी और नहर के मेढ़, गोहा की जमीनों पर रोजाना बांस-बल्लियां और पन्नी-तिरपाल, हरी नेट लगाकर झुग्गियों के लिए कब्जे हो रहे हैं। जिस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। अधिकारियों को इतनी भी फुरसत नहीं हैं कि वह अपनी सरकारी जमीनों को बचाने और सुरक्षित रखने के लिए बेजा कब्जों को हटाने मौके पर पहुंच कार्रवाई कर सकें। झुग्गी माफिया नालों को भी नहीं छोड़ रहे। नालों के दोनों किनारों पर भी अतिक्रमण किए जा रहे हैं। इनके आसपास की कॉलोनियों के रहवासियों ने जनसुनवाई में भी शिकायतें की हैं, लेकिन कार्रवाई नहीं हो पा रही।

दृश्य एक: न्यास कॉलोनी के आसपास

हाऊसिंग बोर्ड क्षेत्र में न्यास कॉलोनी और नपा के पक्के आवासों के बीच खाली पड़ी सरकारी जमीन पर सौ से अधिक बेजा कब्जे हो गए हैं। लोगों ने रातोंरात साडिय़ों, बांस-बल्लियों और पन्नियों व टीन और हरे रंग की नेट लगाकर अपने-अपने प्लाट (अवैध कब्जे) काट लिए हैं। इस जमीन के अतिक्रमण के आसपास के कॉलोनी वासियों व्दारा विरोध करने पर झुग्गी माफिया धमका रहे हैं।

नालों के आसपास भी हो गया अतिक्रमण
हालत तो यह है कि अंकिता नगर, न्यास कॉलोनी और आईटीआई से निकले नाले के आसपास भी बेजा अतिक्रमण हो गया है। यह नाला सालों से कच्चा और गंदगी से भरा है। नपा ने इसकी सफाई भी महीनों से नहीं की है। मजबूरन कॉलोनी के लोगों को हरी नेट लगाकर अपने आवासों को बचाना पड़ रहा है।
अंकिता नगर में भी हो गए अवैध कब्ज
आईटीआई से सटे अंकिता नगर में भी खाली पड़ी जमीन पर बेजा कब्जे हो गए हैं। यहां से निकले नाले पर भी झुग्गी माफिया अतिक्रमण करने से बाज नहीं आ रहे हैं।
बड़ी पहाडिय़ा रोड किनारे तन गई झुग्गियां
इधर, नवीन जेल के आगे बड़ी पहाडिय़ा रोड पर नहर की मेढ़ और इसके आगे की खाली पड़ी सरकारी जमीन पर भी दर्जनों झुग्गियां तन गई हैं। नहर के पानी और बिजली का भी धड़ल्ले से झुग्गियों में उपयोग हो रहा है। प्रशासन एवं पुलिस ने बाहर से आए इन खानाबदोश लोगों की पहचान और इनकी मुसाफिरी तक की जांच भी अब तक नहीं की है, जबकि पास में ही पेट्रोल पंप, शैक्षणिक संस्थान और कॉलोनियां हैं।

इनका कहना है....
शहर में उक्त स्थानों सहित जहां भी सरकारी जमीन व नहर-सड़क किनारे अतिक्रमण और अवैध कब्जे हैं, उनका सर्वे कर जल्द ही सख्ती से हटाए दिए जाएंगे।
- आलोक पारे, तहसीलदार होशंगाबाद

sandeep nayak Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned