लोक अदालत से रिश्तों में आई मिठास, सुलह के बाद साथ-साथ घर लौटे बिछड़े दंपत्ती

लोक अदालत से रिश्तों में आई मिठास, सुलह के बाद साथ-साथ घर लौटे बिछड़े दंपत्ती

govind chouhan | Publish: Sep, 09 2018 06:30:50 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

कुटुंब न्यायालय व परिवार परामर्श केंद्र ने एक दर्जन टूटे परिवारों को मिलाया

होशंगाबाद. पति-पत्नी के रिश्तों के बीच चल रही कड़वाहट जरा सी समझदारी से मिठास में घुल गई। एक दूसरे को जो पहले देखना भी पसंद नहीं करते उन्होंने आंखों में आंखें डालकर मुस्कुराते हुए फिर से जीवन भर साथ निभाने का वादा किया। एक दूसरे को फूलमाला पहनाई और एक दूसरे का हाथ संभाला। माता-पिता के फिर से साथ रहने से बच्चों के चेहरे खिल गए। ऐसे करीब 16 बिछड़े परिवारों को आपस में मिलाया गया। इनमें 15 कुटुंब न्यायालय व एक प्रकरण में आपसी रजामंदी से समझौते कराए गए। इन्हें पौधे देकर राजी-खुशी से घरों को रवाना किया गया।

बिजली के 1860 प्रकरणों में 4.40 करोड़ माफ हुए
लोक अदालत में मुख्य रूप से बिजली चोरी के मामले वापस लिए गए। 9 करोड़ 26 लाख के कुल 2435 प्रकरणों में से 1860 प्रकरणों में 4 करोड़ 40 रुपए माफ किए। इनमें घर के 20 प्रकरण में 9 लाख 51 हजार एवं पंपों के 1840 प्रकरणों में 4 करोड़ 55 लाख रुपए माफ हुए हैं। वसूली के 26 प्रकरणों में 4 लाख 17 हजार की वसूली की गई।

पति ने पत्नी को प्यार से रखने का किया वादा
नौगजा जुमेराती निवासी लताबाई अहिरवार मुडिय़ाखेड़ा बाबई निवासी पति राकेश से मारपीट व अच्छे से नहीं रखने गृहस्थी का सामान नहीं लाने के कारण तीनों बच्चों अमन, अनामिका, मयंक के साथ अलग रह रही थी। लोक अदालत में जब कुटुंब न्यायालय के न्यायाधीश आरबी गुप्ता ने दोनों को बच्चों का हवाला देकर समझाइश दी तो दोनों पति-पत्नी साथ रहने व दांपत्य जीवन अच्छे से बिताने को राजी हो गए। दोनों बच्चों के साथ सुलह होने के बाद घर लौटे।

केस: एक - बेटा-बेटी को साथ पढ़ाने राजी हुई पत्नी
पवारखेड़ा खुर्द बाबई निवासी सविता कीर जरा से मनमुटाव से पति अर्जुन सिंह कीर से अलग रहने लगी थी। इनके दो बच्चे हैं। रूपाली मां के साथ व सौरभ पिता के साथ ग्राम गांजित में रहकर पढ़ाई कर रहा था। दोनों के बीच मीडियशन कार्रवाई असफल हो गई थी। न्यायाधीश ने जब समझाइश दी तो दोनों पति-पत्नी अपने दोनों बच्चों को साथ रहकर उनकी पढ़ाई कराने के लिए राजी हो गए।

केस : दो- 12 साल बाद एक हुए पत्नी-पत्नी
ग्वालटोली निवासी इंदल सिंह एवं ज्योति राठौर शक से उपजे मनमुटाव के कारण पिछले 12 सालों से विलग थे। दोनों की शादी वर्ष 1999 में हुई थी। 17 व 12 वर्षीय बेटा मां के पास रह रहे थे। बात इतनी बिगड़ी की दोनों एक-दूसरे से मिलना तो दूर देखना भी पसंद नहीं करते थे। धारा 13 का तलाक का केस भी लगा रखा था। जब पति-पत्नी को समझाइश दी तो दोनों राजीनामा करने को तैयार हुए। पत्नी-पत्नी दोनों बच्चों के साथ राजी-खुशी घर को भेंट में मिले पौधे लेकर लौटे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned