मध्यप्रदेश के इस जिले में थाईलैंड की प्रिंसेस ने दी नायाब प्रतिमा

यहां है जिले का एकमात्र प्रज्ञा बौद्ध पार्क, आखिर क्या है इसकी खासियत की देश-विदेश से लोग इसे देखने आते हैं....

By: poonam soni

Updated: 08 Dec 2019, 01:12 PM IST

इटारसी. मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले में एक नायाब प्रतिमा विराजित की गई है। खास बात की यह प्रतिमा थाइलैंड की प्रिंसिस ने भेंट की है। थाइलैंड की प्रिंसिस की दी यह प्रतिमा अष्टधातु से निर्मित की गई है। आज यहां जोरो शोरो से इसकी पूजा अर्चना की जाएगी। आज बुद्ध दिवस है यानि बुद्ध के आत्मज्ञान प्राप्ति दिवस मनाने का दिन। दुनिया को शांति का संदेश देने वाले भगवान बुद्ध का एक बहुत ही सुंदर मंदिर नयायार्ड इटारसी में स्थित है। इस बौद्ध विहार में विराजित प्रतिमा थाइलैंड से लाई गई है।

2008 में दी थी भेंट
अष्टधातु से बनी यह मूर्ति थाईलैंड की प्रिंसिस ने 2008 में स्वयं भेंट की थी। इसके बाद से बुद्ध पूर्णिमा और अन्य अवसरों पर यहां बौद्ध अनुुयायी बुद्ध वंदना करने के लिए यहां जुटते हैं। अखिल भारतीय बौद्ध महासभा के अध्यक्ष रामदास निकम, सचिव बब्बन साठे और कोषाध्यक्ष गनु तायडे बताते हैं कि बौद्ध विहार में सालभर देश और विदेश से आराधना करने बौद्ध भिक्षु आते रहते हैं।

जिले का पहला प्रज्ञा बौद्ध विहार
निकम बताते हैं कि यह जिले का पहला प्रज्ञा बौद्ध विहार है। जिसमें आत्मशांति प्रतीत होती है। और देश विदेश के भिक्षु भ्रमण करने आते हैं। बुद्ध पूर्णिमा पर अधिक संख्या में लोग एकत्रित होते हैं। वही इटारसी जंक्शन होने के कारण यहां पर कई सारे अनुुयायी आते हैं जो ट्रेन का इंतजार करने से अच्छा इस बौद्ध पार्क में घटों भ्रमण कर जाते हैं।

आज होगी बुद्ध वंदना
बुद्ध पूर्णिमा के साथ प्रति रविवार सुबह 10 बजे परित्राण पाठ, बुद्ध वंदना, संविधान शपथ दिलाई जाएगी। साथ ही युवाओं को समाज के प्रति नेक कार्य, रोजगार, सुरक्षा के नियम, धर्म के बारे में जागरूक किया जाएगा।

रेलवे कर्मचारियों के सहयोग से बना विहार
समिति सचिव प्रहलाद निकम ने बताया कि यह विहार 1974 में चंदे से बनाया गया था। पहले यहां लोगों को वंदना करने जगह नहीं होती थी। 1973 में रेलवे के रिटायर्ड कर्मचारी ने यह जमीन दान की। इसके बाद सभी रेलवे कर्मचारियों द्वारा चंदा जुटाकर मंदिर का निर्माण किया। रेलवे जंक्शन होने के कारण देश विदेश से भिक्षु विहार में भ्रमण करने आने लगे। चार साल पहले भव्य विहार बनकर तैयार हो गया। अब समय-समय पर देश-विदेशों से बौद्ध भिक्षु यहां आते रहते हैं। जिन्हे यहां आकर शांति मिलती है। अनुयायियों की भक्ती को देख रानी ने बौद्ध भगवान की प्रतिमा भेंट की यह करीब 7 फीट की है।

Show More
poonam soni
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned