गोहटा के काटने से घायल मजदूर, जांच के बाद परिजनों को थमाई स्लाइन, पैदल ले गए वार्ड तक

गोहटा के काटने से घायल मजदूर, जांच के बाद परिजनों को थमाई स्लाइन, पैदल ले गए वार्ड तक
The injured laborer from Gohata's bite, after the investigation, the relatives are stranded, on the pedestrian ward

Manoj Kumar Kundoo | Publish: Jul, 23 2019 09:10:45 PM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

सूरत-ए-हाल, जिला अस्पताल : जिला अस्पताल में गोहटा के काटने से घायल युवक को लेकर आए थे परिजन

 

होशंगाबाद

जिला अस्पताल में मरीजों के साथ होने वाले व्यवहार और इलाज का अंदाजा इस तस्वीर से लगाया जा सकता है। गोहटा के काटने से घायल मजदूर को परिजन व अन्य साथी जिला अस्पताल लेकर आए। यहां इलाज के बाद मरीज के हाथ में स्लाइन थमा दी गई। न स्ट्रेचर मिला न व्हीलचेयर, मरीज पैदल ही वार्ड तक कराहते हुए पहुंचा। सोहागपुर तहसील के गुजरवाड़ा निवासी मलखान सिंह (३०) मजदूरी का काम करता है। काम के दौरान उसके बांए हाथ में गोहटा ने काट लिया। गोहटा के काटने के बाद जहर न फैले इसलिए उसके हाथ को अन्य साथियों ने गमछे से बांध दिया था। दोपहर करीब १२.३० बजे उसे जिला अस्पताल लाया गया। यहां मौजूद डा. नितिन मौशिक ने जांच की और मरीज को अस्पताल में भर्ती कर लिया। इस दौरान न तो मरीज को वार्ड तक ले जाने के लिए वार्ड बॉय थे न ही स्ट्रेचर। कुछ देर तो परिजन स्ट्रेचर और व्हीलचेयर तलाशते रहे, इसके बाद हाथ में स्लाइन पकड़कर पैदल ही मरीज को वार्ड तक ले गए। ज्ञात रहे कि जिला अस्पताल में वार्ड बॉय की कमी से मरीज के नाते-रिश्तेदार स्ट्रेचर और व्हीलचेयर धकेलते नजर आते हैं।

इनका कहना है...

मरीजों की सुविधाओं में बढ़ोतरी के प्रयास किए जा रहे हैं। इस तरह के हालात वार्ड बॉय की कमी से बनते हैं। जिसे दूर करने के लिए विभागीय पत्राचार किए गए हैं। -डा. दिनेश कौशल, सीएमएचओ।

 

 

 

 

 

गोहटा के काटने से घायल मजदूर, जांच के बाद परिजनों को थमाई स्लाइन, पैदल ले गए वार्ड तक

-सूरत-ए-हाल, जिला अस्पताल : जिला अस्पताल में गोहटा के काटने से घायल युवक को लेकर आए थे परिजन

होशंगाबाद

जिला अस्पताल में मरीजों के साथ होने वाले व्यवहार और इलाज का अंदाजा इस तस्वीर से लगाया जा सकता है। गोहटा के काटने से घायल मजदूर को परिजन व अन्य साथी जिला अस्पताल लेकर आए। यहां इलाज के बाद मरीज के हाथ में स्लाइन थमा दी गई। न स्ट्रेचर मिला न व्हीलचेयर, मरीज पैदल ही वार्ड तक कराहते हुए पहुंचा। सोहागपुर तहसील के गुजरवाड़ा निवासी मलखान सिंह (३०) मजदूरी का काम करता है। काम के दौरान उसके बांए हाथ में गोहटा ने काट लिया। गोहटा के काटने के बाद जहर न फैले इसलिए उसके हाथ को अन्य साथियों ने गमछे से बांध दिया था। दोपहर करीब १२.३० बजे उसे जिला अस्पताल लाया गया। यहां मौजूद डा. नितिन मौशिक ने जांच की और मरीज को अस्पताल में भर्ती कर लिया। इस दौरान न तो मरीज को वार्ड तक ले जाने के लिए वार्ड बॉय थे न ही स्ट्रेचर। कुछ देर तो परिजन स्ट्रेचर और व्हीलचेयर तलाशते रहे, इसके बाद हाथ में स्लाइन पकड़कर पैदल ही मरीज को वार्ड तक ले गए। ज्ञात रहे कि जिला अस्पताल में वार्ड बॉय की कमी से मरीज के नाते-रिश्तेदार स्ट्रेचर और व्हीलचेयर धकेलते नजर आते हैं।

इनका कहना है...

मरीजों की सुविधाओं में बढ़ोतरी के प्रयास किए जा रहे हैं। इस तरह के हालात वार्ड बॉय की कमी से बनते हैं। जिसे दूर करने के लिए विभागीय पत्राचार किए गए हैं। -डा. दिनेश कौशल, सीएमएचओ।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned