पुजारी ने मांगी मदद तो अफसर ने आवेदन पर लिख दिया भगवान इनकी समस्या हल करे

पुजारी ने मांगी मदद तो अफसर ने आवेदन पर लिख दिया भगवान इनकी समस्या हल करे

poonam soni | Publish: May, 10 2018 01:41:27 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

मंदिर से निकाले जाने के बाद दफ्तरों के चक्कर लगा रहा पुजारी

होशंगाबाद। सरकारी विभागों में काम भगवान के भरोसे ही चल रहा है। इसलिए ही तो यहां मदद मांगने के लिए पहुंच रहे लोगों के आवेदनों पर भी लिखा जा रहा है कि भगवान इनकी मदद करे। जीहां यह बात सही है। ऐसा ही एक मामला आया है मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले में। जहां मदद मांगने के लिए पहुंच एक पुजारी के आवेदन पर अधिकारी ने कुछ ऐसी ही टीप लगा दी। इसके बाद भी अब पुजारी मदद के लिए दफ्तर-दफ्तर भटक रहा है।

यह है मामला
दरअसर होशंगाबाद जिले के बाबई में राजोन निवासी हरिराम बल्द हरि लंबे समय से यहां के मंदिर में पूजा कर रहे हैं। हरिराम के अनुसार वह करीब ५० साल से मंदिर में पूजा अर्चना कर रहे हैं। अचानक से उनको मंदिर से निकाल दिया गया और पुजारी के पद से भी हटा दिया। इस पर पुजारी ने एक आवेदन तहसील कार्यालय में दिया कि उनको फिर से मंदिर में पूजा करने का मौका दिया जाए इसलिए संबंधित सरपंच को बुलाकर बताया जाए। यहां से आवेदन दफ्तर-दर-दफ्तर घूमता रहा। लेकिन पुजारी की समस्या का हल नहीं हो सका। इस दौरान तहसीलदार, एसडीएम से लेकर कलेक्टर तक ने उक्त आवेदन देखा उस पर कार्यवाही के लिए भी लिखा लेकिन पुजारी अब भी दफ्तरों के चक्कर लगा रहा है।

 

अफसर ने लिख दिया 'भगवान इनकी समस्या हल करे
सुनने में ससमर्थ पुजारी के इस आवेदन पर किसी अधिकारी ने लिख दिया कि 'भगवान इनकी समस्या हल करे। इससे पता चलता है कि सरकारी अधिकारी भी अब भगवान भरोसे हो गए हैं।

यह पर दिया आवेदन
बुजुर्ग पुजारी ने इस दौरान तहसीलदार कार्यालय, एसडीएम दफ्तर, एसपी और कलेक्टर के पास जाकर मदद के लिए गुहार लगाई। लेकिन पुजारी की समस्या का समाधान अब तक नहीं हो सका है।

नहीं बचा रोजगार का साधन
पुजारी के पास अब कोई भी रोजगार का साधन नहीं बचा है। क्योंकि उसकी आय का जरिया उक्त मंदिर की पूजा-अर्चना ही थी। यह पूजा करना बंद करने के बाद से उसके सामने रोजगार का संकट पैदा हो गया है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned