इस बार 1840 रुपए समर्थन मूल्य पर होगी गेहूं की खरीदी

समर्थन मूल्य में 105 रुपए की बढोतरी
21 जनवरी से शुरू होगा पंजीयन, 25 मार्च से होगी खरीदी

By: yashwant janoriya

Published: 19 Jan 2019, 12:00 PM IST

इटारसी. शासन ने समर्थन मूल्य घोषित कर दिया है। इस बार १८४० रुपए समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी की जाएगी। पिछली बार की अपेक्षा समर्थन मूल्य में इस बार १०५ रुपए की बढोतरी की गई है।
गेहूं की समर्थन मूल्य पर खरीदी २५ मार्च से शुरू होगी जो २४ मई तक चलेगी। एक सप्ताह में पांच दिन खरीदी करने के बाद दो दिन शनिवार और रविवार भंडारण, परिवहन, लेखा मिलान एवं विवादों के निराकरण किया जाएगा। समर्थन मूल्य पर खरीदी के लिए किसानों का पंजीयन २१ जनवरी से २३ फरवरी तक निर्धारित केंद्रों पर किया जाएगा।
यह भी दिए निर्देश
- उपार्जन केंद्र ऐसी जगह खोले जाएं जिससे किसानों को २५ किलोमीटर से ज्यादा दूरी तय नहीं करना पड़े।
- उपार्जन केंद्रों पर जनसुविधाएं, दरियां, टेबल कुर्सी, पेयजल, शौचालय, छाया, बिजली का इंतजाम हो। मॉच्र्युर मीटर और बड़ा छन्ना और पंखे का भी इंतजाम होना चाहिए।
- सुरक्षा के लिए तिरपाल, कवर, अग्निशमन यंत्र, रेत बाल्टी, फस्र्ट एड बॉक्स का इंतजाम किया जाए।
- किसानों समयावधि में भुगतान किया जाए।
- एसएमएस से किसानों को सूचित किया जाएगा। दो तारीख किसान से मांगी जाएगी जिससे वह एक तारीख पर अपनी उपज नहीं ला पाए या अन्य कोई कारण होने पर उसे दूसरी तारीख पर बुलाया जा सके।
- बिना एसएमएस के तौल पत्रक जारी नहीं होगा और एसएमएस १० दिन पहले किसानों को भेजे जाएंगे।
- उपार्जन केंद्र गोदाम परिसर में खोले जाने को प्राथमिकता दी जाएगी।
- बोरों पर केंद्र स्लिप के साथ कृषक की स्लिप भी अंकित की जाएगी जिससे पहचान हो सके की उपज किस किसान की है।

बाबा रामदेव ने माफी नहीं मांगी तो कोर्ट जाएगा ब्राह्मण समाज
जिला सर्व ब्राह्मण समाज ने बाबा रामदेव के खिलाफ किया प्रदर्शन
इटारसी. बाबा रामदेव द्वारा ब्राह्मण समाज पर की गई टिप्पणी के विरोध में शुक्रवार को जिला सर्व ब्राह्मण समाज द्वारा शहर में प्रदर्शन किया। दोपहर २ बजे दूसरी लाइन स्थित परशुराम भवन में एकत्रित हुए। यहां से वाहन रैली निकालकर सभी ब्राह्मण समाज के लोग एसडीएम कार्यालय पहुंचे। यहां सभी सदस्यों ने नायब तहसीलदार एनपी शर्मा को राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन प्रेषित किया। ज्ञापन के माध्यम से समाजिक बंधुओं चेतावनी दी है कि यदि इस मामले में बाबा रामदेव ने माफी नहीं मांगी तो इस मामले को ब्राहमण समाज न्यायालय में ले जाएगा। प्रदर्शन के दौरान जिलाध्यक्ष जितेन्द्र ओझा, नगर अध्यक्ष अशोक शर्मा, राजकुमार दुबे, आरसी चतुर्वेदी, अवध पांडे, दिनेश उपाध्याय, संतोष शर्मा, राजेश शर्मा, मनीष वाजपेयी सहित अन्य मौजूद थे।
समाज को बांटने वाला है बयान:ओझा
बाबा रामदेव द्वारा वर्ण व्यवस्था पर दिया गया बयान पूरी तरह अप्रासंगिक होने के साथ ही औचित्यहीन है। इस तरह का बयान समाज को बांटने वाला है उक्त बात समाज के जिलाध्यक्ष जितेन्द्र ओझा ने कही। उन्होंने कहा कि बाबा रामदेव द्वारा समाज को जाति तथा वर्ण के आधार पर बांटने का प्रयास किया जा रहा है।

yashwant janoriya
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned