आफत की बारिश: 32 गांवों की हजारों एकड़ गेहूं फसल बर्बाद, किसानों ने कहा कि 70 फीसदी की नुकसान

- किसानों के मुताबिक 6 0-70 फीसदी हुआ है फसल को नुकसान
- किसान संगठनों ने तहसीलदार कार्यालय पर किया प्रदर्शन, सौंपे ज्ञापन

 

By: poonam soni

Updated: 20 Mar 2020, 01:01 PM IST

होशंगाबाद. बुधवार सुबह जिले में आंधी-बारिश के साथ हुई ओलावृष्टि से डोलरिया तहसील के पचास में से करीब 32 गांवों में लगी गेहूं फसल को भारी नुकसान पहुंचा है। कुछ गांवों में 8 0 और अधिकांश गांवों में 6 0-70 प्रतिशत नुकसान हुआ है। फसल आड़ी होने के कारण इसके संभलने की उम्मीद खत्म हो चुकी है। इस कारण फसल की गुणवत्ता पर असर पड़ा है। कलेक्टर धनंजय सिंह के निर्देश पर तहसील के प्रभावित गांवों में आरआई, पटवारी, ग्राम सचिव, कृषि विस्तार अधिकारियों की संयुक्त टीमों से नुकसानी का सर्वे कराया जा रहा है। गुरुवार शाम तक 20 गांवों का सर्वे पूरा कर लिया गया था। डोलरिया, मिसरौद, शैल, दहेड़ी, दतवासा में 50-6 0 एवं बमूरिया, सांवलखेड़ा, गुनौरा, पालनपुर में 70-90 प्रतिशत नुकसान पहुंचा है।


इन गांवों की फसलें प्रभावित
तहसीलदार ज्योति ठोके ने बताया कि डोलरिया तहसील के डोलरिया, नागनिया पुरा, शैल, डूडूगांव, दीवान खरार, सुपरली, बैहराखेड़ी, बमूरिया, सेमरीखुर्द, ढाबाखुर्द, चंदवाड़, दहेड़ी, मनवाड़ा, दतवासा, आमुपुरा, मंगवारी, बाईखेड़ी, बमोरीखुर्द, भीलाखेड़ी, हाथिया, खोकसर, खरखैड़ी, गुनोरा, सांवलखेड़ा, पालनपुर आदि गांवों में ओलावृष्टि, आंधी-बारिश से गेहूं फसल प्रभावित हुई है। नुकसान के प्रतिशत का आंकलन सर्वे के माध्यम से किया जा रहा है।


किसान बोले- जल्द मिले राहत
इधर, किसान संगठनों ने तहसीलदार कार्यालय पहुंचकर प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपे। जिसमें प्रभावित किसानों को तत्काल राहत राशि देकर आगामी समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी में एफएक्यू के मापदंड में रियायत देने की मांग उठाई है। किसानों ने धीमी गति से चल रहे सर्वे कार्य पर भी नाराजगी जताई है। वहीं भारतीय किसान संघ के जिला युवा वाहिन संयोजक ललित चौहान, तहसील अध्यक्ष राजकुमार राजपूत, राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के जिला अध्यक्ष राकेश गौर सहित पीडि़त किसान संजय दीवान कल्लू भैया, त्रिलोक यादव, संतोष गौर सहित अन्य ने बताया कि ओलावृष्टि से गेहूं फसल को काफी नुकसान हुआ है। प्रशासन जल्द सर्वे कराकर राहत राशि का वितरण करे।

किसान मजदूर संघ ने दिया ज्ञापन
राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ ने डोलरिया तहसील पहुंचकर गुरुवार को तहसीलदार ज्योति ठोके को ज्ञापन देकर गेहूं फसल का हुए नुकसान का आरबीसी 6 -4 के तहत सर्वे कराकर राहत राशि सहित बीमा का क्लेम दिलाने की मांग रखी। ज्ञापन देने वालो में जिला अध्यक्ष राकेश गौर, जिला प्रवक्ता गणेश गौर ,जिला मंत्री देवकीनंदन गौर, जिला संरक्षक सदस्य यशवंत गौर, तहसील मीडिया प्रभारी संतोष रघुवंशी, राहुल राज गौर, नवीन गौर, दीपक गौर, शंकर रघुवंशी, सहित प्रभावित गांव के किसान शामिल रहे। भाजयुमो के जिलाध्यक्ष प्रांशु राने के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर धनंजय सिंह से मुलाकात कर किसानों को त्वरित राहत देने और जिन गांवों में अधिकारी नहीं पहुचे वहां तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों को भेजने की मांग की। कलेक्टर ने बताया कि वह स्वयं भी प्रभावित गांवों का जायजा ले रहे हैं।

पिपरिया : प्रशासन ने निगरानी सर्वे किया
पिपरिया. बुधवार को ग्रामीण अंचल में हुई ओलावृष्टि और बारिश से हुए नुकसान का एसडीएम, तहसीलदार ने दल के साथ खेतों में पहुंचकर गुरुवार को सर्वे किया। एसडीएम मदनसिंह रघुवंशी ने बताया कि पिपरिया के 11 और बनखेड़ी के 8 गांव में ओले गिरने की सूचना पर सर्वे शुरू किया है। तहसीलदार राजेश बोरासी ने बताया कि एक पट्टी में ही बारिश ओले का असर है। फसलें खेतों में आड़ी हुई हैं। राजस्व दल इसकी विस्तृत सर्वे देंगे, उसके बाद आगे कार्रवाई की जाएगी।

Show More
poonam soni
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned