scriptTraining given to participants in two day workshop | दो दिवसीय कार्यशाला में प्रतिभागियों को दिया गया प्रशिक्षण | Patrika News

दो दिवसीय कार्यशाला में प्रतिभागियों को दिया गया प्रशिक्षण

दो दिवसीय कार्यशाला में प्रतिभागियों को दिया गया प्रशिक्षण

होशंगाबाद

Published: November 18, 2021 09:34:08 pm

दो दिवसीय दो दिवसीय कार्यशाला में प्रतिभागियों को दिया गया प्रशिक्षण
कार्यशाला में प्रतिभागियों को दिया गया प्रशिक्षण
होशंगाबाद। स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत हमेशा ही हमने लोगों की सोच में परिवर्तन किया है। पहले ग्रामीण खुले में शौच करने जाते थे। स्वच्छ भारत मिशन ने अभियान के तहत आई जागरूकता से लोगों की आदत में परिवर्तन आया हैं। आज सभी ग्रामीण शौचालय का उपयोग कर रहे हैं एवं हमने ओडीएफ की तरफ अपना कदम बढ़ाया है। अब इमें अगला कदम बढ़ाना है एवं लोगों को ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन की ओर लेकर जाना है, जो लोग बाहर कचरा फेंकते हैं, पानी का सही प्रबंधन नहीं करते हैं, उनकी आदत में परिवर्तन कर ग्रामों को ओडीएफ प्लस बनाना है, जिसके लिये आप सभी को एक बार फिर से अभियान चलाना है, जिस प्रकार ओडीएफ के समय चलाया था। यह बात मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत मनोज सरियाम के द्वारा प्लेटीनम रिसोर्ट में ठोस एवं तरल अपशिष्ठ प्रबंधन की कार्यशाला में समापन समारोह में कहीं। ज्ञात हो कि जिला पंचायत के तत्वाधान में संभाग स्तरीय 2 दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें की ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन पर तकनकी मार्गदर्शन वाटर एड से आये चेतन अत्रे एवं लेनिन जेकब के द्वारा दिया गया। प्रशिक्षण उपरांत सभी 65 प्रतिभागी होशंगाबाद हरदा एवं बैतुल में जाकर विकासखण्ड में प्रशिक्षण देंगे एवं ग्राम स्तर पर कार्ययोजना बनाकर ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन के कार्य प्रारंभ करेंगे।
Patrika Logo
पत्रिका लोगो
दो दिवसीय कार्यशाला में प्रतिभागियों को दिया गया प्रशिक्षण
होशंगाबाद। स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत हमेशा ही हमने लोगों की सोच में परिवर्तन किया है। पहले ग्रामीण खुले में शौच करने जाते थे। स्वच्छ भारत मिशन ने अभियान के तहत आई जागरूकता से लोगों की आदत में परिवर्तन आया हैं। आज सभी ग्रामीण शौचालय का उपयोग कर रहे हैं एवं हमने ओडीएफ की तरफ अपना कदम बढ़ाया है। अब इमें अगला कदम बढ़ाना है एवं लोगों को ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन की ओर लेकर जाना है, जो लोग बाहर कचरा फेंकते हैं, पानी का सही प्रबंधन नहीं करते हैं, उनकी आदत में परिवर्तन कर ग्रामों को ओडीएफ प्लस बनाना है, जिसके लिये आप सभी को एक बार फिर से अभियान चलाना है, जिस प्रकार ओडीएफ के समय चलाया था। यह बात मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत मनोज सरियाम के द्वारा प्लेटीनम रिसोर्ट में ठोस एवं तरल अपशिष्ठ प्रबंधन की कार्यशाला में समापन समारोह में कहीं। ज्ञात हो कि जिला पंचायत के तत्वाधान में संभाग स्तरीय 2 दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें की ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन पर तकनकी मार्गदर्शन वाटर एड से आये चेतन अत्रे एवं लेनिन जेकब के द्वारा दिया गया। प्रशिक्षण उपरांत सभी 65 प्रतिभागी होशंगाबाद हरदा एवं बैतुल में जाकर विकासखण्ड में प्रशिक्षण देंगे एवं ग्राम स्तर पर कार्ययोजना बनाकर ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन के कार्य प्रारंभ करेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.