अजब-गजब : यहां ड्रिप चढ़ाकर पौधों को दिया जाता है नया जीवन...देखें वीडियो

दूर-दूर तक पानी की व्यवस्था नहीं होने के कारण खोजा उपाय, हनुमाजी की सूखी बगिया हो गई हरी-भरी, 400 पौधे पा गए नया जीवन

By: Manoj Kundoo

Updated: 12 Nov 2017, 12:24 PM IST

मनोज कुंडू/ होशंगाबाद। बीमार होने पर इंसान जब डॉक्टर के पास पहुंचता है तो अक्सर उसे ड्रिप चढ़ाकर एनर्जी दी जाती है, कभी आपने सुना है कि पेड़ों को जीवनदान देने के लिए ड्रिप चढ़ाई जाती है। जीहां यह बात 100 फीसदी सच है। मप्र के होशंगाबाद में प्रवेश द्वार पर हनुमानजी का एक अनोखा मंदिर है। इस मंदिर पर पेड़-पौधों को ड्रिप लगाकर जीवनदान दिया जाता है। इस तरह अब तक लगभग मृत अवस्था में पहुंच चुके 400 पौधे जीवन पा गए हैं। इनके कारण हनुमाजी की इस सूखी बगिया में हरियाली आ गई है। यहां आने वाला हर भक्त प्रसाद के साथ पौधों दवा रूपी पानी का इंतजाम भी करके जाता है। यह मंदिर आदमगढ़ पहाड़ी पर स्थित है, जो पर्यावरण संरक्षण की मिशाल बन गया है।

 

दूर-दूर तक नहीं पानी की व्यवस्था
दरअसल मंदिर के आसपास दूर-दूर तक पानी का कोई इंतजाम नहीं है। पहाड़ी पर होने के कारण पानी बड़ी समस्या थी। इस कारण मंदिर पर पौधे लगाने के बाद भी वे कभी नहीं पनप पाते थे। जिसके लिए ड्रिप पद्धति का उपयोग किया गया और अब यहां हरियाली के साथ फूल भी खिल रहे हैं। श्री हनुमंत महाराज जी मंदिर नियमित आने वाले श्रद्धालु रविंद्र गौर बताते हैं कि वे पिछले दो साल से लगातार आ रहे हैं। मंदिर में पूजा पाठ के अलावा वे हमेशा पेड़ पौधों में लगी इन बोतलों में पानी भी भरते हैं। उनकी ही तरह अन्य भक्त भी यहां जल लेकर आते हैं लेकिन वह भगवान को न चढ़ाकर बोतल में भरते हैं। सिर्फ प्रसाद मंदिर में चढ़ाया जाता है। एक अन्य श्रद्धालु नरेंद्र कुमार ने बताया कि मंदिर परिसर में अमरुद, बेर, नीम व फूलों के पौधे लगाए गए हैं। जिससे मंदिर परिसर भविष्य में पार्क की तरह नजर आएगा।

ऐसे हुई शुरूआत
मंदिर के पुजारी सुदामा राव ने बताया कि किसी भक्त ने उन्हें सुझाया कि जिस तरह मरीजों को ड्रिप लगाई जाती है। उसी तरह पेड़ पौधों में सिंचाई कर यहां हरियाली लाई जा सकती है। जिसके बाद उन्होंने ड्रिप सिस्टम से सिंचाई शुरू की। नतीजतन अब मंदिर परिसर में घनी हरियाली है। इससे पहले कई बार प्रयास करने के बाद भी वे पौधों को पानी के अभाव में सूखने से नहीं बचा पाते थे।

Manoj Kundoo Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned