पांच किलोमीटर तक रेलवे पटरी पर चलकर शव लेकर गांव पहुंचे लोग

मध्यप्रदेश में बारिश के कारण जनजीवन पूरी तरह प्रभावित, पांच किलोमीटर पटरियों पर पैदल चलकर शव लेकर गांव पहुंचे लोग, मुश्किलों के बीच हुआ अंतिम संस्कार..

By: Shailendra Sharma

Published: 30 Aug 2020, 05:32 PM IST

होशंगाबाद/सिवनीमालवा. मध्यप्रदेश में लगातार बारिश के कारण दूसरे दिन भी नदी-नाले उफान पर रहे जिससे जनजीवन पूरी तरह से प्रभावित हुआ। ऐसे ही एक तस्वीर होशंगाबाद के सिवनीमालवा में सामने आई जहां मकोडिया गांव के रहने वाले एक युवक की जिला अस्पताल में मौत होने के बाद उसके शव को गांव तक ले जाने के लिए ग्रामीणों को पांच किलोमीटर तक रेलवे पटरियों पर पैदल चलना पड़ा। गांव पहुंचने के बाद भी मुश्किल कम नहीं हुई और काफी दिक्कतों के बाद युवक का अंतिम संस्कार किया गया।

पटरियों पर 5 किमी. तक शव लेकर चले पैदल
शनिवार-रविवार की दरम्यानी रात करीब एक बजे जिला अस्पताल में भर्ती मकोडिया निवासी केदार यादव की लीवर खराब होने के कारण इलाज के दौरान मौत हो गई थी। युवक की मौत के बाद परिजन उसके शव को अस्पताल से वाहन से लेकर गांव के लिए रवाना हुए लेकिन डोलरिया गांव के पास हथेड़ नदी के उफान पर होने से नदी का पानी पुल के ऊपर से बह रहा था जिसके कारण शव को आगे नहीं ले जाया जा सके। इसके बाद परिजन और दूसरे ग्रामीण रेल की पटरियों के रास्ते होकर पतलई रेलवे नाका तक पांच किलोमीटर पैदल चलकर शव लेकर पहुंचे जहां से बाद में ट्रेक्टर ट्रॉली की मदद से शव को गांव तक ले जाया गया।

गांव पहुंचने के बाद भी कम नहीं हुई परेशानी
मकोडिया में मुक्तिधाम ग्राम से एक किलोमीटर दूर हथेड नदी के किनारे बना है। हथेड नदी उफान पर होने के कारण मुक्तिधाम तक शव ले जाने में भी ग्रामीणों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। मुक्तिधाम की रोड न होने और नदी के उफान पर होने के कारण ग्रामीण शवयात्रा को जंगल के रास्ते फिर खेतों से होते हुए और फिर एक नाले को पार कर मुक्तिधाम लेकर पहुंचे और तब कहीं जाकर मृतक केदार का अंतिम संस्कार किया गया।

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned