scriptWater ,canals did not,reach,even after, six days from Tawa Dam | लेट लतीफी: हरदा जिले में पानी जरूरत नहीं होने से नहर का फ्लो कम , होशंगाबाद में 6 दिन बाद भी नहीं पहुंचा | Patrika News

लेट लतीफी: हरदा जिले में पानी जरूरत नहीं होने से नहर का फ्लो कम , होशंगाबाद में 6 दिन बाद भी नहीं पहुंचा

होशंगाबाद जिले की नहरों की पूरी तरह सफाई भी नहीं हुई, डोलरिया, सिवनीमालवा-शिवपुर एरिया में बोवनी के इंतजार में किसान, अधिकारी नहीं दे रहे जबाव, किसानों कहा-ऐसे में पिछड़ जाएगी रबी की बोवनी

होशंगाबाद

Published: November 04, 2021 12:10:30 pm

देवेंद्र अवधिया

होशंगाबाद. जिले में बीते 28 अक्टूबर को बाईं मुख्य तट नहर में तवा डैम से रबी सीजन की फसलों की बोवनी-सिंचाई के लिए पानी छोड़ा गया था, लेकिन छह दिन बाद भी सिवनीमालवा-शिवपुर और डोलरिया क्षेत्र में किसानों के खेतों तक पानी नहीं पहुंचा है। नहरों की भी पूरी तरह साफ-सफाई नहीं होने से टेल एरिया के किसान अभी से चिंतित नजर आ रहे। मिसरौद माइनर, सिवनीमालवा, शिवपुर-भिलाडिय़ा माइनर में कई स्थानों पर नहरें सूखी पड़ी हुई है। किसान अपने खेतों को बरखकर गेहूं-चने की बोवनी के लिए पानी का बेसब्री से इंतजार कर रहे। दरअसल पानी नहीं पहुंचने के पीछे किसान जो कारण बता रहे उसमें अभी हरदा जिले में पानी की डिमांड नहीं है, इसलिए तवा बांध से मुख्य नहर में पानी का फ्लो नहीं बढ़ाया जा रहा। बता दें कि हरदा कृषि मंत्री का गृह जिला है। होशंगाबाद के बजाए हरदा जिले में ज्यादा पानी दिया जाता है। इससे हर साल होशंगाबाद जिले की सीमा वाले सिवनीमालवा-शिवपुर तहसील के किसान पर्याप्त पानी के लिए परेशान होते हैं। बता दें कि इस बार के रबी सीजन में सफाई के नाम पर वैसे ही 24 को खुलने वाली नहर 28 अक्टूबर को देरी से खोली गई। उसके बाद भी खेतों में पानी नहीं पहुंच पा रहा। दरअसल नहरों में गेट लगाकर रखे हैं, जिसे डाउन नहीं किया जा रहा। इस वजह से भी पानी पहुंचने में रूकावटें हो रही। किसानों का यह भी कहना है कि पानी लेट किया जा रहा ताकि रबी सीजन के बाद गर्मी में मूंग में पानी न देना पड़े। कम फ्लो से पानी छोड़ा जा रहा। इधर, तवा नहर परियोजना विभाग के अधिकारियों के मुताबिक बाईं मुख्य तट नहर में 2 हजार क्यूसिक पानी छोड़ा जा रहा है। सिवनीमालवा-हरदा तक की नहरों में पानी पहुंच रहा है।

36 घंटे में पहुंचने वाला पानी 6 दिन में भी नहीं पहुंच रहा
सिवनीमालवा, शिवपुर के किसानों ने बताया कि 36 घंटे में नहरों से पानी खेतों तक पहुंच जाता है, लेकिन इस बार सभी जगह पानी पर्याप्त मात्रा में नहीं पहुंच पा रहा। हरदा की तुलना में होशंगाबाद जिले सिंचाई के पानी दिए जाने में भेदभाव बरता जाता था। मिसरौद माइनर से जुड़ी नहरों में पानी नहीं पहुंचने से किसान परेशान हैं। रबी की मुख्य फसल गेहूं-चने की बोवनी करने में दिक्कतें आ रही है। जैसे-तैसे महंगे खाद-बीज का इंतजाम किया, लेकिन अब पानी को लेकर इंतजार करना पड़ रहा है। जिले में वैसे ही डीएपी-यूरिया खाद का संकट अभी भी बना हुआ है।

सिवनीमालवा को सबसे पहले होती है पानी की जरूरत
जिले में सिवनीमालवा तहसील के किसानों को सबसे पहले पानी की जरूरत होती है, क्योंकि धान की फसल समय पर कट चुकी है। खेत भी रबी फसलों की बोवनी के लिए पिछले 15 दिनों से खाली पड़े हुए हैं। किसानों ने मांग की है कि नहरों में पानी का फ्लो तेज किया जाए और टेल एरिया तक पर्याप्त पानी पहुंचाया जाए, ताकि बोवनी पूरी हो सके।

होशंगाबाद जिला देता है गेहूं की बंपर पैदावार
जिला हर साल गेहूं की बंपर पैदावार देता है। इसमें सिवनीमालवा-शिवपुर क्षेत्र मुख्य रूप से शामिल है। इस बार जिले में 3 लाख 30 हजार हैक्टेयर में रबी फसलों की बोवनी की जाएगी। इसमें सबसे अधिक एरिया गेहूं फसल का ही है। तवा परियोजना विभाग के मुताबिक 2 लाख 61 हजार हैक्टेयर रकबे में तवा बांध की नहरों से किसानों को सिंचाई की सुविधा मुहैया कराई जा रही है। बाकी के हिस्से में अन्य छोटे-मध्यम जलाशयों व निजी स्रोत से सिंचाई होगी।

जिले में क्षेत्राच्छादन एवं उत्पादकता
फसल - बोवनी लक्ष्य (हजार हैक्टेयर में)
गेहूं : 285.80
चना : 35.00
मसूर : 2.50
मटर : 0.40
राई-सरसों : 1.20
अलसी : 0.60
गन्ना : 4.50
....................................................
रबी योग : 330.00
(कुल 3 लाख 30 हजार हैक्टेयर रकबे में ली जाएगी रबी फसलें)

इनका कहना है....
दो हजार क्यूसिक पानी छोड़ा जा रहा है...
सिवनीमालवा और हरदा जिले के लिए बाईं मुख्य तट नहर से पानी छोड़ा जा रहा है। दोनों क्षेत्र में टॉप प्रॉयटरी पर पानी दिया जा रहा है। करीब दो हजार क्यूसिक पानी छोड़ा जा रहा है, जिससे दो केनाल पूरी हो गई है। किसानों से भी फीडबैक लिया जा रहा है, अगर कहीं पानी पहुंचने में दिक्कतें है उसे भी दूर किया जाएगा। दिवाली के बाद दाईं मुख्य तट नहर की होशंगाबाद-इटारसी, सोहागपुर-बाबई, पिपरिया आदि क्षेत्र में पानी दिया जाएगा।
-आईडी कुमरे, कार्यपालन यंत्री तवा परियोजना विभाग

हरदा की तरह होशंगाबाद में भी भरपूर पानी मिले
सिवनीमालवा-शिवपुर तहसील में मुख्य नहर से उप नहरों में पानी का फ्लो बेहद कम है। इस कारण खेतों तक पानी नहीं पहुंच पा रहा है। नहरे चालू हुए छह दिन हो चुके हैं, हमारी मांग है कि पानी के फ्लो को तेज कर पर्याप्त पानी दिया जाए, ताकि समय पर रबी फसलों की बोवनी हो सके। हरदा जिले के समान ही होशंगाबाद जिले के किसानों को भी भरपूर पानी मिलना चाहिए। इस संबंध में जल्द ही संघ की बैठक में रणनीति तैयार की जाएगी।
-ललित चौहान, संयोजक जिला युवा वाहिनी भारतीय किसान संघ

लेट लतीफी: हरदा जिले में पानी जरूरत नहीं होने से नहर का फ्लो कम , होशंगाबाद में 6 दिन बाद भी नहीं पहुंचा
लेट लतीफी: हरदा जिले में पानी जरूरत नहीं होने से नहर का फ्लो कम , होशंगाबाद में 6 दिन बाद भी नहीं पहुंचा

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कम उम्र में ही दौलत शोहरत हासिल कर लेते हैं इन 4 राशियों के लोग, होते हैं मेहनतीबाघिन के हमले से वाइल्ड बोर ढेर, देखते रहे गए पर्यटक, देखें टाइगर के शिकार का लाइव वीडियोइन 4 राशि की लड़कियों का हर जगह रहता है दबदबा, हर किसी पर पड़ती हैं भारीआनंद महिंद्रा ने पूरा किया वादा, जुगाड़ जीप बनाने वाले शख्स को बदले में दी नई Mahindra BoleroFace Moles Astrology: चेहरे की इन जगहों पर तिल होना धनवान होने की मानी जाती है निशानीइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशदेश में धूम मचाने आ रही हैं Maruti की ये शानदार CNG कारें, हैचबैक से लेकर SUV जैसी गाड़ियां शामिल

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE updates: राजपथ पर दिखी संस्कृति और नारी शक्ति की झलक, 7 राफेल, 17 जगुआर और मिग-29 ने दिखाया जलवारेलवे का बड़ा फैसला: NTPC और लेवल-1 परीक्षा पर रोक, रिजल्‍ट पर पुर्नविचार के लिए कमेटी गठितRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस पर दिल्ली की किलेबंदी, जमीन से आसमान तक करीब 50 हजार सुरक्षाबल मुस्तैदUP Assembly Elections 2022 : सपा सांसद आजम खां जेल से ही करेंगे नामांकन, कोर्ट ने दी अनुमतिकोटा में रिवरफ्रंट पर लगेगी विश्व की सबसे बड़ी घंटी, वजन होगा 57 हजार किलोक्या योगी आदित्यनाथ फिर बनेंगे यूपी के मुख्यमंत्री? जानिए क्या कहती हैं ज्योतिषीयों की भविष्यवाणीकांग्रेस युक्त भाजपा! कविता के जरिए शशि थरूर ने पार्टी छोड़ रहे नेताओं और बीजेपी पर कसा तंजRPN Singh के पार्टी छोड़ने पर बोले CM गहलोत, आने वालों का स्वागत तो जाने वालों का भी स्वागत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.