इंद्रदेव को मनाने कहीं भजन तो कहीं भंडारा

सूख रही फसल, अन्नदाता परेशान

By: harinath dwivedi

Published: 18 Aug 2017, 03:31 PM IST

इटारसी। बारिश के मौसम में अभी तक नाममात्र की बारिश हुई। जिसमें सावन में अच्छी बारिश होती है लेकिन इस बार बारिश नहीं होने से डैम खाली, नदी नाले सूखे पड़े है और फसल भी सूखने लगी है। बारिश की आस लगाए बैठे किसान भी अब निराश होने लगे हैं क्योंकि बारिश नहीं होने के कारण फसल भी सूखने की कगार पर आ चुकी है। किसान और किसानों के परिवार भगवान इंद्र को मना रहे हैं कि बारिश हो जाए तो उनकी फसल सूखने से बच जाए। बारिश होने की राह देख रहे किसान अब इंद्रदेव को प्रसन्न करने के लिए भजन और भंडारे कर रहे हैं। इंद्रदेव पूजा अर्चना, भजन भंडारे से प्रसन्न हुए और शुक्रवार को सुबह करीब आधा घंटे तेज बारिश हुई है।

मरोड़ा गांव में किसान परिवारों की महिलाएं गांव के मंदिर में एकत्रित होकर भगवान के भजन कर रही हैं। महिलाओं ने बताया कि प्रतिदिन भजन कर रहे हैं जिससे भगवान प्रसन्न हो जाए और बारिश हो तो फसल सूखने से बच सके।

बीसारोड़ा में किसानों ने बारिश के लिए खेत में जाकर पूजा अर्चना की और इंद्रदेव को मनाने के लिए भंडारे का आयोजन किया। किसानों ने खेत में ही अपने हाथों से प्रसाद बनाकर वितरण किया। जिससे बारिश हो जाए और उनकी फसल बच सके।

किसान हो रहे परेशान
बारिश नहीं होने किसान उपज को लेकर परेशान हो रहे हैं। कई किसानों को आर्थिक परेशानी की चिंता भी सताने लगी है। यही कारण है कि ग्रामीण अब रुठे इंद्रदेव को मनाने के जतन कर रहे हैं। किसानों ने भंडारे का आयोजन किया है।

सूख रही धान
बारिश नहीं होने के कारण खरीफ की फसल धान, सोयाबीन, दलहन पर प्रभाव पड़ रहा है। यह फसलें अब सूखने लगी हैं। इन फसलों की बोबनी को एक माह से अधिक हो गया है और पानी नहीं मिला है। बारिश नहीं होने से यह खराब हो जाएगी।

 

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned