गेहूं की तौल में गड़बड़ी का 'कांटा'

जिले में २ लाख ७८ हजार क्विंटल खरीदी गया गेहूं, किसानों को १११ क्विंटल की चपत

By: Manoj Kundoo

Published: 10 Apr 2019, 09:57 PM IST

होशंगाबाद. गेहूं की तौल में गड़बड़ी का कांटा लगाकर किसानों की जेब हल्की की जा रही है। कलेक्टर-कमिश्नर के साथ 'पत्रिका Ó ने खरीदी केंद्रों का हाल जाना। जिसमें खुलासा हुआ कि बारदानों के वजन से ज्यादा गेहूं लिया जा रहा है। जिले में अभी तक २ लाख ७८ हजार क्विंटल गेहूं खरीदी जा चुकी है। जिसमें १११.२ क्विंटल यानी लगभग २ लाख रुपए से ज्यादा की किसानों को चपत लग चुकी है।

हालात बयां करती तस्वीरें और जिम्मेदारों के अजीब तर्क -

सेवा सहकारी समिति जासलपुर -समय : सुबह ११.३० बजे -हालात : कृषि मंडी होशंगाबाद में खरीदी केंद्र बनाया गया है। यहां छोटे कांटे पर तौल चल रही थी। बोरियों में ५० किलो ६०० ग्राम गेहूं भरा जा रहा था। केंद्र प्रभारी मर्दन सिंह का तर्क-५० किलो ५८० ग्राम की भर्ती चल रही है। मजदूर लोग हैं हो सकता है एक आध बोरी में ज्यादा भर दिया हो।

नर्मदांचल सोसाइटी होशंगाबाद -समय : दोपहर १२.३० बजे -हालात : खरीदी केंद्र कृषि मंडी में ५० किलो ६०० ग्राम गेहूं भरा जा रहा था। -सोसाइटी प्रबंधक जितेंद्र राजपूत का तर्क- समिति २० ग्राम इसलिए ज्यादा दे रही ताकि सूखने से सरकार को कम माल न मिले ज्यादा ही मिले। कलेक्टर के आदेश के जबाव में कहा-अरे तो २० ग्राम में क्या हो गया भैया।

 

सहकारी समिति सनखेड़ा (इटारसी) -समय : दोपहर ३ बजे -हालात : कृषि मंडी इटारसी में खरीदी केंद्र है। यहां बोरियों में ५० किलो ६०० ग्राम गेहूं भर रहे थे। -केंद्र प्रभारी सौरभ सौलंकी का तर्क- ५० किलो ५८० ग्राम की भर्ती कर रहे हैं। कलेक्टर के आदेश के सवाल पर कहा- तुलाई करने वाले दिल्ली से आए हुए हैं, वे स्पीड में बोरियों को तौलते हैं। कभी-कभी ५० किलो ६०० ग्राम हो जाता है।

 

फैक्ट फाइल--जिले में २ लाख ८४ हजार हेक्टेयर में गेंहू की फसल -लगभग ९ लाख मीट्रिक टन खरीदी का लक्ष्य -कुल २०२ खरीदी केंद्र बनाए गए -करीब ५८ हजार किसानों का पंजीयन

Manoj Kundoo Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned