31 मार्च 2021 तक जरूर कर लें ये पांच काम अन्यथा लग सकती है भारी पेनल्टी

एक अप्रैल से नया वित्तीय वर्ष आरंभ होने के साथ ही कई नए नियम भी लागू हो जाएंगे जिनका पालन नहीं करने पर आपको पेनल्टी भरनी पड़ सकती है या आर्थिक नुकसान उठाना पड़ सकता है।

By: सुनील शर्मा

Published: 26 Mar 2021, 12:09 PM IST

31 मार्च को वर्तमान वित्तीय वर्ष समाप्त होने के साथ ही कई पुराने नियम भी बदल जाएंगे। इन बदलावों के चलते आम आदमी की जिंदगी में भी कई नए परिवर्तन आएंगे, इसलिए बेहतर है कि आप समय रहते 31 मार्च से पहले ही अपने उन सभी कामों को निपटा लें जिनमें देर होने पर आपको भारी-भरकम नुकसान उठाना पड़ सकता है। आइए जानते हैं कि 1 अप्रैल से क्या नए परिवर्तन होने जा रहे हैं?

यह भी पढ़ें : बाजार में भरा जोश, निवेशकों को 1.80 लाख करोड़ रुपए का हुआ फायदा

यह भी पढ़ें : यही है सोना खरीदने का सही समय, 12 हजार रुपए तक सस्ता हुआ सोना

आधार कार्ड को पैन से लिंक कराएं
सरकार ने आधार कार्ड को पैन नम्बर से लिंक कराने के लिए अंतिम तिथि 31 मार्च 2021 तय की है। यदि इस तारीख तक पैन को आधार से लिंक नहीं कराया तो आपका पैन कार्ड डिएक्टिवेट हो जाएगा जिसके कारण आपको खासा नुकसान उठाना पड़ सकता है।

GST रिटर्न फाइलिंग
वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए वार्षिक जीएसटी रिटर्न (GST Return) फाइल करने की अंतिम तिथि भी 31 मार्च 2021 तक बढ़ा दी गई थी। अगर आपने अभी तक अपनी कंपनी की जीएसटी रिटर्न दाखिल नहीं की है तो अभी करवा सकते हैं।

सस्ते होम लोन के लिए करें अप्लाई
इस समय देश के कई बड़े बैंक कम ब्याज दर पर होम लोन उपलब्ध करवा रहे हैं। इन बैंकों में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, आईसीआईसीआई और एचडीएफसी जैसे बड़े बैंक शामिल हैं। अगर आप भी सस्ते होम लोन के लिए अप्लाई करना चाहते हैं तो 31 मार्च 2021 से पहले इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं।

पुरानी आईटीआर जमा करवाएं
अगर गत वर्ष कोरोना के चलते आप अपनी व्यक्तिगत आईटीआर जमा नहीं करवा सके तो उसके लिए भी आयकर विभाग ने 31 मार्च 2021 तक का समय दिया है। आप इस तारीख से पहले अपनी आईटीआर फाइल कर खुद को पेनल्टी से बचा सकते हैं।

टैक्स डिपोजिट करवाने से न चूकें
आयकर विभाग के नियमानुसार अगर आप आयकर दाता की श्रेणी में आते हैं या किसी तरह का टैक्स बनता है तो आपके लिए एडवांस टैक्स जमा करवाने की अंतिम तिथि भी 31 मार्च 2021 ही है। इस डेट के बाद टैक्स जमा करवाने पर पेनल्टी लगाई जा सकती है अथवा एक्शन लिया जा सकता है। यहां यह भी जानना जरूरी है कि अगर आप करदाता की श्रेणी में नहीं आते हैं परन्तु नियमों के अनुसार अगर आपको TDS या इनकम टैक्स जमा करवाना जरूरी है तो करों का भुगतान जरूर करें। बाद में इस टैक्स के रिफंड के लिए अप्लाई कर इसे वापिस लिया जा सकता है।

income tax
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned