बेकार प्लास्टिक की बोतलों से बनाया आलीशान होटल, अब सालाना कमाते है करोड़ रुपए

इन वेस्ट सामान से ऐसी चीज का निर्माण कर देते है जिसके बारे में कभी सोचा भी नहीं होता है।
कुछ दोस्तों मिलकर ऐसा ही कुछ कमाल कर दिखाया है।
बेकार प्लास्टिक की बोतलों से एक आालीशान होटल तैयार किया है।

By: Shaitan Prajapat

Updated: 16 Jan 2021, 04:00 PM IST

नई दिल्ली। अकसर देखा जाता है कि बेकार सामान को लोग कबाड़ी को देते है। कोई भी वेस्ट आइटम अपने पास नहीं करना चाहता है। क्योंकि वो किसी के काम में नहीं होता है। कुछ लोग ऐसे भी है जो इन बेकार सामान का उपयोग करते है। कई बार तो इन वेस्ट सामान से ऐसी चीज का निर्माण कर देते है जिसके बारे में कभी किसी ने सोचा भी नहीं होता है। कुछ दोस्तों मिलकर ऐसा ही कुछ कमाल कर दिखाया है। जी हां, इन लोगों ने बेकार प्लास्टिक की बोतलों से एक आालीशान होटल तैयार किया है। दुनियाभर में इस काम की तारीफ की जा रही है। उन्होंने उन्होंने 5 लाख बेकार प्लास्टिक की बोतलों से अंडमान निकोबार द्वीप समूह पर एक शानदार रिसोर्ट बना दिया!

करना चाहते है बेहतर
एक रिपोर्ट के अनुसार, 31 वर्षीय जोरावर पुरोहित लंबे वक्त से एक डाइविंग इंस्ट्रक्टर हैं। वह अंडमान में रहते हैं। यहां द्वीप पर प्लास्टिक कचरे का अंबार देख उन्होंने कुछ करने का विचार किया। उन्होंने तय किया कि इनका उपयोग कर पर्यावरण को नुकसान बचाया जा सके। डाइविंग इंस्ट्रक्टर के साथ जोरावर, टूर गाइड का भी काम करने लगे। उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया कि उनके कस्टमर्स हमेशा उनसे यहां के अच्छे रिसोर्ट, खाने के बारे में पूछते थे। तब उनको रहने और खाने के लिए बेहतर इंतजाम करने का सोचा।

यह भी पढ़े :— खूनी परंपरा! पत्नी के लिए मौत की जंग, कई बार चली जाती है जान

प्लास्टिक की रीसाइक्लिंग की व्यवस्था नहीं
उनका कहना है कि द्वीप पर अधिकांश कंस्ट्रक्शन कार्यों के दौरान बड़े पैमाने पर जंगलों को बर्बाद कर दिया जाता है। इस वजह से यहां प्रदूषण का स्तर बढ़ गया है और इससे पर्यावरण को काफी नुकसान हो रहा है। इसलिए मैं कुछ अलग करने का विचार किया। वह बताते हैं कि अंडमान 580 द्वीपों से मिलकर बना है। यहां प्लास्टिक की रीसाइक्लिंग के लिए कोई उचित व्यवस्था नहीं है। इस तरह उन्हें आउटबैक हैवलॉक रिसोर्ट बनाने का विचार आया।

एक करोड़ का किया निवेश
जोरावर ने साल 2017 में अपने तीन दोस्तों अखिल वर्मा, आदित्य वर्मा और रोहित पाठक के साथ मिलकर आउटबैक हैवलॉक शुरू किया। उन्होंने 5 लाख बेकार बोतलों को जमा करने के अलावा, 500 किलोग्राम रबर वेस्ट को भी जमा किया। जहां बोतलों का इस्तेमाल लग्जरी कमरों को बनाने के लिए किया गया। वहीं रबर से रिसोर्ट में फुटपाथ बनाया गया। इस होटल को बनाने के लिए उन्होंने 1 करोड़ रुपये का निवेश किया। फिलहाल, वह इससे सालाना 1.5 करोड़ रुपये का कारोबार करते हैं।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned