कोरोना वायरस : 32 वर्षीय महिला बनी लोगों के लिए मसीहा, साइकिल से बांट रही बुजुर्गों को खाना

  • Nobel Work : सोशल मीडिया पर पोस्ट के जरिए जरूरमंदों का पूछती हैं पता, इसके बाद उन तक पहुंचाती हैं मदद
  • महिला एक आईटी प्रोफेशनल हैं, वह इस मुश्किल दौर में लोगों की मदद करना चाहती हैं।

Soma Roy

25 Mar 2020, 04:27 PM IST

नई दिल्ली। कोरोना (Coronavirus) के कहर ने जहां लोगों को हिलाकर रख दिया है। वहीं कुछ लोग इस मुश्किल घड़ी में खुद की परवाह किए दूसरों को सहारा दे रहे हैं। ऐसा ही नेक काम बेंगलुरु (Bengaluru) की एक 32 वर्षीय महिला कर रही हैं। वह लॉकडाउन (Lockdown) के चलते बंद हालात में जरूरतमंद बुजुर्गों को खाना बांट रही हैं।

ऐसे लोगों तक खाना पहुंचाने के लिए महिला ने अनोखा तरीका आजमाया है। वह अपने साइकिल पर सारा जरूरी सामान रखकर सुबह से ही निकल पड़ती हैं। उन्हें जैसे ही पता चलता है कि किसी को उनकी जरूरत है तो वह तुरंत ही उन्हें मदद पहुंचाने चल देती हैं। ऐसा उम्दा काम करने वाली महिला का नाम ऐश्वर्या एस है। वो पेशे से आईटी प्रोफेशनल हैं। बेंगलुरु में ही नौकरी करती हैं। उनकी मां चेन्नई में रहती हैं।

मुश्किल दौर में हर कोई जहां अपने परिवार के साथ रहना चाहता है। वहीं ऐश्वर्या बेबस लोगों का सहारा बनना चाहती हैं। तभी उन्होंने अपने घर न जाकर बेंगलुरु में रहकर जरूरतमंदों की मदद का फैसला किया। वह इस दौरान होने वाली सारी बातें अपनी मां से शेयर करती हैं। ऐश्वर्या गरीब बुजुर्गों तक पहुंचने के लिए सोशल मीडिया का सहारा ले रही हैं। उन्होंने एक पोस्ट के जरिए लोगों से ऐसे जरूरतमंदों की डिटेल्स देने को कही है। इसी के जरिए वो उन तक पहुंचती हैं। ऐश्वर्या के इस नेक काम को देखकर दूसरे लोग भी इस मुहिम का हिस्सा बनने के लिए आए हैं।

ऐश्वर्या ने यह भी बताया कि वह दूसरों की मदद करने के दौरान खुद की सेहत से लापरवाही बिल्कुल नहीं करती हैं। वो हाईजीन का पूरा ध्यान रखती हैं। वह दिन में दो बार शॉवर लेती हैं। साथ ही दिन में कई बार हाथ धोती हैं। साथ ही मास्क लगाकर चलती हैं और जरूरी सामान दूसरों को देते समय सोशल डिस्टेंसिंग का भी ख्याल रखती हैं।

Show More
Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned