कोरोना वायरस : नैनी झील पर अचानक बने तीर ने जगाई उम्मीद, लोग मान रहे हैं भगवान का संकेत

  • Naini Lake : उत्तराखंड के नैनीताल की एक झील में कुदरती तौर पर बना तीर का निशान
  • स्थानीय लोगों ने इस चिन्ह् को माना ईश्वर और प्रकृति का इशारा

 

Soma Roy

25 Mar 2020, 10:35 AM IST

नई दिल्ली। कोरोना वायरस (Coronavirus) ने पूरी दुनिया में आतंक मचाकर रखा है। लोग घरों से बाहर निकलने से डर रहे हैं। साथ ही उन्हें भविष्य की चिंता हो रही है। ऐसे में उत्तराखंड के नैनीताल में नैनी झील (Naini Lake) पर अचानक प्रकट हुए तीर के निशान ने लोगों को नई उम्मीद दी है। वहां के लोग इसे भगवान का शुभ संकेत (God's Indication) मान रहे हैं। उनके मुताबिक ईश्वर ही उन्हें और पूरे देश को संकट के इस दौर से बाहर निकालेंगे।

मालूम हो कि जब से कोरोना वायरस से देश में कहर बरपाया है। वैसे ही लोगों का विश्वास धर्म और आस्था में बढ़ा है। कुछ लोग जहां शंखनाद से वायरस को खत्म करने में यकीन रख रहे हैं। तो वहीं अन्य लोगों स्प्रिचुअल हीलिंग का सहारा ले रहे हैं। ऐसे में नैनी झील पर प्रकट हुए तीर के निशान को भी लोग सकारात्मक रवैये से देख रहे हैं। नैनीताल के लोग यह मान रहे हैं कि वैसे तो कोरोना वायरस की वजह से बहुत मुश्किल आने वाली है, लेकिन घबराने की कोई बात नहीं। कोरोना का कहर इसी तरह झील के पानी के रास्ते नैनीताल, फिर देश और फिर दुनिया से निकलने वाला है।

nanda_devi1.jpg

देवभूमि पर प्रकट हुए इस तीर को स्थानीय लोग एक प्रतीक के तौर पर भी देख रहे हैं। उनका मानना है कि प्रकृति हमें गहरा संदेश दे रही है कि उसका सम्मान करो और अपनी जड़ों से दूर मत जाओ, नहीं तो संकट बड़ा गहरा है। बता दें कि मां नंदा को उत्तराखंड वासी बड़ी आस्था के साथ पूजते हैं। उनका मानाना है कि देवी मां ही उनके समस्त कष्टों का निवारण करती हैं। इसलिए कोरोना वायरस से छुटकारा दिलाने में भी वह उनकी मदद करेंगी।

Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned